कोरोना वायरसदिल्लीबड़ी खबरेंराज्य

कोरोना का कहर: मरकज में शामिल 200 संदिग्धों में से 24 कोरोना पाजिटिव,6 की हो चुकी है मौत

नई दिल्ली,(लोकसत्य)। दक्षिण पूर्वी दिल्ली के निजमुद्दीन इलाके से कोरोना वायरस से संक्रमण से सनसनी फैल गई है। यहां मरकज में भाग लेने आये देश-विदेश के 2000 लोगों में से लगभग 200 लोगों में संक्रमण के लक्षण है। इसमें में 24 पाजिटिव पाये गये है। जबकि 6 लोगों की मौत हो चुकी है। सभी मृतक तेलंगाना के है। इसकी पुष्टि तेलंगाना मुख्यमंत्री कार्यलाय ने भी कर दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने मरकज के मौलाना पर केस दर्ज करने की मांग की है।

बताते चलें की निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज में दस से अधिक देशों के नागरिकों समेत 2000 लोगों को यहां के अलग अलग अस्पतालों में जांच के लिए ले जाया गया था। जिन लोगों को जांच के लिए ले जाया गया है, उनमें बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान, मलेशिया, सऊदी अरब, इंग्लैंड और चीन के करीब 100 विदेशी नागरिक शामिल है।

उल्लेखनी है कि मरकज में एक से 15 मार्च के बीच तबलीग-ए-जमात के इज्तिमे (मजहबी मकसद से एक खास जगह जमा होना) में दो हजार से ज्यादा लोगों ने शिरकत की थी। इनमें इंडोनेशिया और मलेशिया के लोग भी शामिल थे। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि कुछ लोगों के कोरोना वायरस से संपर्क में आने की आशंका के बाद इलाके को सील कर दिया गया है।

अधिकारियों ने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों में बीमारी के लक्षण दिखने की रिपोर्टों के बाद दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ के अफसरों और मेडिकल टीमें रविवार रात इलाके में गई थी। कम से कम 100 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। इनकी रिपोर्ट मंगलवार तक आने की उम्मीद है। मुस्लिम संगठन तबलीग-ए-जमात के मुख्यालय और घरों समेत पूरे इलाके को काट दिया गया है।

खुलासे के बाद  दिल्ली पुलिस, सीआरपीएफ की मेडिकल टीमें लोगों की जांच कर रही हैं और उन्हें पृथक रखने के लिए निर्धारित अस्पतालों में भेज रही हैं। पिछले हफ्ते श्रीनगर में करीब 60 वर्षीय व्यक्तित की संक्रमण से मौत होने के बाद फिक्र होना शुरू हुई। इस शख्स ने इज्तिमे में शिरकत की थी। अधिकारियों के मुताबिक, संगठन के मुख्यालय में बड़ी सभा के बाद छोटी-छोटी मंडलियों में भी लोग बैठते हैं।

संगठन के मुख्यालय के पास निजामुद्दीन थाना और ख्वाजा मुईनुद्दीन औलिया की दरगाह  है। इस इज्तिमे में सऊदी अरब, इंडोनेशिया, दुबई, उज्बेकिस्तान और मलेशिया सहित कई देशों के प्रचारकों ने हिस्सा लिया। भारत के अलग अलग हिस्सों से आए करीब 600 लोगों ने भी इसमें हिस्सा लिया। अधिकारियों ने बताया कि भारतीय नागरिक तो ट्रेनों और उड़ानों के जरिए वापस चले गए। देश के कई हिस्सों में सामने आए कुछ मामलों के संपर्क खंगाले गए तो उनका संबंध इस इज्तिमे से निकाला। लोगों को पृथक केंद्र में भेजने के लिए बसों को तैयार रखा गया है। इज्तिमे में शिरकत करने वालों के लिए रहने की व्यवस्था जिन हॉस्टलों की जाती थी, उन्हें भी सील कर दिया गया है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close