कोरोना वायरसस्पोर्ट्स

व्यस्त कैलेंडर में आगे कैसे संभव हो पायेगा आईपीएल

नई दिल्ली, (लोकसत्य)। वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस और देश भर में लगे लॉकडाउन के कारण इंडियन प्रीमियर लीग आईपीएल का 13वां संस्करण 15 अप्रैल तक स्थगित हो चुका है और इस समय जैसे हालात हैं उसे देखते हुए इस समय को आगे भी खिसकाया जा सकता है।
दुनिया भर में कोरोना के कारण जैसे हालात हैं उसके मद्देनजर सात सप्ताह के के इस टी-20 टूर्नामेंट को पूरे स्वरुप में आगे करा पाना बहुत मुश्किल होगा क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर काफी व्यस्त है। इस समय दुनिया भर में क्रिकेट गतिविधियां ठप्प पड़ी हुई हैं और जब अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर फिर से शुरू होगा तो अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और देशों की पहली प्रतिबद्धता अंतर्राष्ट्रीय मैचों को पूरा करने की होगी।
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को इस व्यस्त कैलेंडर में जगह निकलने के लिए या तो आईसीसी से आग्रह करना होगा या फिर टूर्नामेंट के आकार को छोटा करना होगा। बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरभ गांगुली संकेत दे चुके हैं कि इस बार आईपीएल छोटा हो सकता है जबकि आईपीएल फ्रैंचाइज़ी राजस्थान रॉयल्स के मालिक मनोज बदाले का भी मानना है कि इस बार टूर्नामेंट छोटे आकार में हो सकता है।
आईपीएल को 29 मार्च से शुरू होना था लेकिन कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए इसे 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया था। भारत में इस समय 21 दिन का लॉक डाउन लगा हुआ है जो 14 अप्रैल तक समाप्त होगा। इस बीच कोई विदेशी खिलाड़ी भारत नहीं आ सकता है और भारतीय खिलाड़ी भी देश में कहीं की यात्रा नहीं कर सकते हैं।
आईपीएल के 15 अप्रैल के बाद होने की सम्भावना न के बराबर है और बीसीसीआई को इसे आगे की अवधि के लिए स्थगित करना पड़ सकता है।लेकिन आगे आईपीएल के लिए समय निकलना टेढ़ी खीर साबित होगा। बीसीसीआई इसे जून के पहले सप्ताह तक खींच सकता है ताकि इसे पूरे स्वरुप में कराया जा सके लेकिन इसके लिए उसे सरकारी मंजूरी की जरूरत होगी और यह भी देखना होगा कि हालात पूरी तरह सामान्य हो जाएं।
कोरोना के चलते आईसीसी की टेस्ट चैंपियनशिप की सभी सीरीज स्थगित पड़ी हुई हैं। टेस्ट चैंपियनशिप जुलाई 2019 में शुरू हुई थी और इसका फाइनल जून 2021 में इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान पर होना है। चैंपियनशिप की सीरीज को मार्च 2021 तक पूरा होना है और तालिका में दो शीर्ष टीमें फाइनल में भिड़ेंगी।
हर सीरीज में अधिकतम 120 अंक दांव पर हैं और नौ टीमों को छह सीरीज (तीन घर पर और तीन विदेश में) खेलनी हैं। कुछ टीमें कई सीरीज खेल चुकी हैं जबकि कुछ टीमों ने शुरुआत करनी है। कई सीरीज इस वर्ष आगे होनी हैं।
मार्च में श्रीलंका और इंग्लैंड को दो टेस्ट खेलने थे। जून में इंग्लैंड और वेस्ट इंडीज को तीन टेस्ट, जुलाई-अगस्त में इंग्लैंड और पाकिस्तान को तीन टेस्ट, जुलाई में वेस्ट इंडीज और दक्षिण अफ्रीका को दो टेस्ट, जुलाई में बंगलादेश और श्रीलंका को तीन टेस्ट, अगस्त में बंगलादेश और न्यूजीलैंड को दो टेस्ट, नवम्बर-दिसम्बर में न्यूजीलैंड और वेस्ट इंडीज को तीन टेस्ट, दिसम्बर-जनवरी में भारत और ऑस्ट्रेलिया को चार टेस्ट तथा दिसम्बर-जनवरी में न्यूजीलैंड और पाकिस्तान को दो टेस्ट खेलने हैं।
आईपीएल में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, वेस्ट इंडीज, दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के खिलाड़ियों की संख्या ज्यादा है। पाकिस्तान के खिलाड़ी आईपीएल में नहीं खेलते हैं जबकि बंगलादेश के चुनींदा खिलाड़ी आईपीएल में खेलते हैं।

 इंग्लैंड में द हंड्रेड टूर्नामेंट 17 जुलाई से 15 अगस्त तक खेला जाना है जिसमें हर पारी में 100 गेंद फेंकी जाएंगी। इसका मैच लगभग तीन घंटे में पूरा हो जाएगा। इस साल का छह टीमों का एशिया कप सितम्बर में निर्धारित है और अक्टूबर में होने वाले टी-20 विश्व कप को देखते हुए यह टी-20 फॉर्मेट में खेला जाना। टी-20 विश्व कप 18 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक ऑस्ट्रेलिया में खेला जायेगा जिसमें 16 टीमें हिस्सा लेंगी।
ऐसे व्यस्त कैलेंडर में आईपीएल के लिए जगह निकाल पाना काफी मुश्किल काम होगा। सबसे बड़ा सवाल तो विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता को लेकर होगा। फ्रैंचाइज़ी टीमें आईपीएल में हर हाल में विदेशी खिलाड़ियों को चाहती हैं क्योंकि उनके बिना टूर्नामेंट का सारा आकर्षण समाप्त हो जाएगा।
राजस्थान रॉयल्स के मालिक मनोज बदाले का मानना है कि यह टूर्नामेंट हो सकता है लेकिन इसका आकार छोटा हो जाएगा और यह सब कुछ बीसीसीआई और अन्य क्रिकेट बोर्डों के बीच सहयोग पर निर्भर करेगा। ब्रिटेन में रहने वाले बदाले ने कहा, “मैं चाहूंगा कि इस वर्ष किसी भी रूप में आईपीएल का आयोजन हो चाहे यह सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के बीच ही क्यों न खेला जाए, यदि विदेशी खिलाड़ी इस बार नहीं आ पाते हैं। लेकिन अभी यह कह पाना मुश्किल है कि इस बार इसका आयोजन हो पाता है या नहीं।”
बीसीसीआई अपने सबसे बड़े टूर्नामेंट को लेकर असमंजस में है। यह पूरा टूर्नामेंट होता है या छोटे आकार में होता है, विदेशी खिलाड़ियों के साथ होता है या विदेशी खिलाड़ियों के बिना होता है, यह समय बताएगा।


Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close