उत्तर प्रदेशक्राइमदिल्लीदिल्लीदेशराज्यसुरक्षा

DCW के प्रयास से उन्नाव पीड़िता को मिला दिल्ली में घर, स्वाति से मिल पीड़िता हुई खुश, आयोग करवाएगा अंग्रेजी व कंप्यूटर की कोचिंग

नई दिल्ली, लोकसत्य। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में पिछले वर्ष हुई दर्दनाक रेप केस की गूंज ने सारे देश को हिलाकर रख दिया था। सत्तारूढ़ दल के विधायक कुलदीप सेंगर द्वारा एक नाबालिग लड़की के साथ न सिर्फ बलात्कार किया गया था, उसके परिवार पर भी दबाव बनाया गया। उन्नाव रेप पीड़िता की गाड़ी की पिछले वर्ष संदिग्ध ट्रक से टक्कर का मामले सामने आया था जिसके बाद पीड़िता और उसके वकील को गंभीर हालत में लखनऊ के एक असप्ताल में भर्ती किया गया था। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल एक्सीडेंट की अगली सुबह ही पीड़िता से मिलने लखनऊ पहुंची थी जहां उन्होंने लगातार प्रशासन के गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार और लड़की की गंभीर स्थिति पर चिंता जताते हुए लड़की और वकील को दिल्ली एयरलिफ्ट कराने की लगातार मांग उठाई।

सुप्रीम कोर्ट की दखल के बाद लड़की के परिवार को उप्र सरकार द्वारा हर्जाना और दिल्ली शिफ्ट करने का आदेश मिला था। पीड़िता का लंबे समय तक दिल्ली के एम्स असप्ताल में ईलाज चला।

ईलाज के दौरान भी दिल्ली महिला आयोग की टीम पीड़िता और परिवार की सहायता के लिए सारे वक्त साथ रही। कोर्ट द्वारा जहां कुलदीप सेंगर को उम्रकैद की सज़ा सुनाई गई। वहीं दिल्ली महिला आयोग पर भरोसा जताते हुए कोर्ट ने पीड़िता को दिल्ली में आवास दिलवाने और पुनर्वास की ज़िम्मेदारी दी।

सनद रहे कि घर ढूंढने में विफल रहने पर दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में अपने हाथ खड़े करे थे जिसके बाद कोर्ट ने ये जिम्मेदारी दिल्ली महिला आयोग को सौंपी थी।

कोर्ट के आदेशों पर दिल्ली महिला आयोग ने पीड़िता और परिवार को दिल्ली में कई घर दिखाए जिसके बाद कोर्ट की सहमति से पीड़िता को घर दिलवाया गया। पिछले कुछ महीने से पीड़िता अपने परिवार के साथ सुरक्षित वातावरण में उस घर मे रह रही है। उनकी सहायता के लिए दिल्ली महिला आयोग की टीम हर समय उपलब्ध रहती है। पीड़िता और उसके परिवार के पुनर्वास पर भी दिल्ली महिला आयोग काम कर रहा है।

परिवार के बच्चों की शिक्षा, स्कूल दाखिले और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज़ पर भी दिल्ली महिला आयोग काम कर रहा है। पीड़िता स्वाति मालीवाल से मिलकर बहुत खुश हुई। पीड़िता का स्वास्थ्य अब बेहतर है, उसने सिलाई का काम भी सीखा है और आगे भी उसके लिए कंप्यूटर और अंग्रेज़ी का कोर्स भी महिला आयोग करवाएगा।

स्वाति ने कहा कि उन्नाव की इस बेटी ने जो लड़ाई लड़ी है उसके लिए बहुत हिम्मत चाहिए होती है। इतनी छोटी उम्र ने बच्ची ने इतने दु:ख सहे हैं। एक-एक करके लड़की के परिवार के सदस्यों को भी शिकार बनाया गया। हम परिवार की हर संभव सहायता कर रहे हैं और इस लड़ाई में हर कदम पर लड़की के साथ खड़े रहेंगे।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close