दिल्लीदेश

पार्टी में विरोध के बावजूद जदयू ने नागरिकता बिल का किया समर्थन

नई दिल्ली,(लोकसत्य)। पार्टी के अन्दर विरोध के बावजूद जनता दल यू (जदयू) ने नागरिकता संशोधन बिल 2019 को समर्थन किया है। लोकसभा में पार्टी द्वारा बिल का समर्थन किए जाने का पार्टी के वरिष्ठ नेताओं सहित कार्यकर्ताओं ने भी पार्टी के इस निर्णय का विरोध कर रहें ​हैं।

लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी जदयू ने नागरिकता संशोधन बिल का समर्थन किया। जदयू सांसद आरसीपी सिंह के समर्थन के एलना के तुरंत बाद ही पार्टी के थिं​कटैंक और वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने इसका विरोध कर दिया।प्रशांत किशोर ने अपने ट्वीटर पर लिखा की  इस बिल का समर्थन करने से पहले जदयू  नेतृत्व को उन लोगों के बारे में सोचना चाहिए था, जिन्होंने 2015 में पार्टी पर भरोसा और विश्वास जताया था।

वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता पवन कुमार वर्मा ने भी पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार से इस पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है। उन्होंने टीवट कर   पार्टी अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस बिल के समर्थन पर पुनर्विचार करें। उन्होंने लिखा की नीतीश कुमार से अपील करता हूं कि राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल के समर्थन पर दोबारा विचार करें। वर्मा ने कहा कि यह बिल पूरी तरह से असंवैधानिक है और देश की एकता के खिलाफ है। यह बिल जदयू के मूल विचारों के भी खिलाफ हैं। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि अगर आज गांधी जी होते तो इसका विरोध करते।

गौरतलब है कि लोकसभा में बिल के समर्थन करने पर जद यू के कार्यकर्ताओं ने पार्टी के दिल्ली स्थित कार्यालय में तोड़फोड़ किया।पार्टी अध्यक्ष ​नीतीश कुमार को धोखेबाज बताया।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close