ऑटो

चिल्लर लेकर शख्स पहुंच गया 50 लाख की BMW खरीदने , देखें फिर क्या हुआ

नई दिल्ली ,(लोकसत्य): लोगों में लग्जरी कारों को खरीदने को लेकर अलग ही दीवानगी रहती है कई लोग तो सपने भी दिन-रात अपनी पसंदीदा कार के ही देखते हैं। क्या हो, जब आपके सामने आपके सपनो की कार आकर रुक जाए। हो जाएंगे ना हैरान दरअसल, चीन के टोंगरेन नाम के शहर में रहने वाला यह शख्स जब एक ट्रक लेकर बीएमडब्लू कार के शोरूम पहुंचा। तब वहां के कर्मचारी ट्रक में भरे हुए सिक्के देखकर हैरान रह गए।

शोरूम के मैनेजर को उसने बताया कि वह कार खरीदना चाहता है। ग्राहक को देखकर टेंशन में आया गया दुकानदार आमतौर पर ऐसा तो कभी भी नहीं होता की जब कोई ग्राहक शोरूम पर कोई कार खरीदने आये और दुकानदार उसे देखकर नाराज हो जाये लेकिन इस चीनी ग्राहक के साथ ऐसा हुआ जब ये इतने सरे सिक्के शोरूम पर पहुंचा और कहा मुझे कार खरीदनी है तब दूकानदार पूरी तरह से टेंशन में आ गया और बोला की इतने सरे चिल्लर सिक्के मै कैसे गिनूंगा और इसे कहा जमा करूंगा कौन सा बैंक इन सिक्कों को लेगा

ग्राहक की बात सुनने के बाद पिघल गया दिल
दूकानदार की बात सुनने के बाद जो ग्राहक इतने सारे सिक्के लेकर पहुंचा था, पहले तो वो काफी दुखी हो गया लेकिन फिर उसने अपने मन की बात दूकानदार से बताई उसने दुकानदार को बताया कि यह कार खरीदने का सपना मैं कई वर्षों से देख रहा हूं।

इसके लिए दिन रात मेहनत की, पाई-पाई जोड़ी और तब जाकर मै इतनी बड़ी रकम इकठ्ठा कर सका हूँ और जब ग्राहक ने ये बात दूकानदार से बताई तब दूकानदार का दिल पिघल गया और वो उस चीनी ग्राहक को कार देने के लिए तैयार हो गया और तब जाकर उस ग्राहक का वर्षों से देखा गया सपना पूरा हो सका |

बैंक से बुलाने पड़े लोग
इसके बाद शोरूम ने सिक्के को गिनने के लिए बैंक में फोन कर 11 कर्मचारियों को बुलाया । और 10 घंटे की मशक्कत के बाद 900 किलो के यह सिक्के गिने गए। सिक्कों की गिनती पुरी होते ही शोरूम तालियों से गूंज गया। और मैनेजर ने गाड़ी की चाबी इस शख्स को सौंप दी।बस ड्राईवर था ग्राहक

कार खरीदने वाला यह शख्स एक बस का ड्राइवर था।

हमेशा से ही इसका सपना लग्जरी कार खरीदने का है। जिसके लिए यह काफी समय से सिक्के जमा कर रहा था। और जमा करते-करते उसे खुद ही पता नहीं चला कब उसके पास 50 लाख से अधिक रुपये जमा हो गए।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close