ऑटो

दिल्ली-जयपुर रूट पर शुरू होगी हाइड्रोजन फ्यूल बस सर्विस, एनटीपीसी ने की पहल

दुनियाभर में बढ़ते वायु प्रदूषण को काबू करने के लिए सरकारें नए-नए कदम
उठा रही है। भारत में इलेक्ट्रिकल व्हीकल्स के लिए बुनियादी ढांचे को
मजबूत करने के साथ ही भारत सरकार वैकल्पिक ईंधन को भी बढ़ावा देने की
तैयारी में है ताकि पेट्रोल-डीजल जैसे पारंपरिक ईंधन के ऊपर निर्भरता को
कम किया जा सके। इलेक्ट्रिक कारों और टैक्सियों को सरकार काफी बढ़ावा दे
भी रही है। इसके अलावा अब सरकार हाइड्रोजन ईंधन से चलने वाली बसों पर
चलाने की दिशा में कदम उठा रही है। इसके लिए सरकार ने हाइड्रोजन फ्यूल
वाली बसों पर एक अध्ययन करा रही है कि वह भारतीय परिवेश के लिहाज से
कितनी व्यवहारिक साबित होंगी।

भारत का सबसे बड़ा ऊर्जा समूह, NTPC Limited (National Thermal Power
Corporation Limited), एनटीपीसी लिमिटेड (नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन
लिमिटेड) दिल्ली-जयपुर सड़क मार्ग पर एक प्रीमियम हाइड्रोजन ईंधन बस सेवा
शुरू करने की योजना बना रहा है। बता दें कि यह भारत में पहली FCEV
(एफसीईवी) बस सर्विस होगी जिसे इस शहर से दूसरे शहर आने-जाने के लिए
इस्तेमाल किया जाएगा। हालांकि यह बस सर्विस कब से शुरू होगी, इसके लिए
किसी समय सीमा का खुलासा नहीं हो पाया है।

इससे पहले, मुंबई जैसे मेट्रो शहरों में इसी तरह की बस सर्विस को शुरू
करने के लिए टेस्टिंग की गई थी।
इंटरसिटी आवाजाही के लिए फ्यूल सेल बसों की व्यवहार्यता का परीक्षण करने
के लिए यह नई सर्विस एक पायलट परियोजना बनने जा रही है। इससे पारंपरिक
ICE इंजन यानी पेट्रोल-डीजल से चलने वाली बसों की तुलना में फ्लूय सेल
बसों को चलाने से कितना फायदा हो सकेगा, इसका विश्लेषण करने में भी मदद
मिलेगी।

दिल्ली में ‘गो इलेक्ट्रिक’ अभियान के शुभारंभ पर ऊर्जा मंत्री आरके सिंह
ने शुक्रवार को कहा, “हम दिल्ली से जयपुर के लिए प्रीमियम हाइड्रोजन
फ्यूल बस सर्विस शुरू करने की योजना बना रहे हैं और धीरे-धीरे हम उसी रूट
पर इलेक्ट्रिक बस चलाने का भी कोशिश करेंगे।”

इसी कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक ऑल-न्यू इलेक्ट्रिक
ट्रैक्टर के बारे में भी एलान किया। गडकरी ने शुक्रवार को ‘गो
इलेक्ट्रिक’ अभियान के शुभारंभ पर कहा, “मैं अगले 15 दिनों में एक
इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर भी लॉन्च करूंगा।” इसके अलावा, सरकार महाराष्ट्र में
40,000 बैटरी से चलनेवाली बसों की खरीद की भी कोशिश कर रही है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close