बिज़नेस

देश की इंडस्ट्री के हितों का पूरा ध्यान रखेंगे -केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा

मुंबई  (लोकसत्य)।  अमेरिका या अन्य देशों के संगठन के साथ ट्रेड को लेकर बातचीत में देश की इंडस्ट्री के हितों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। यह कहना है कॉमर्स एंड इंडस्ट्री मिनिस्टर पीयूष गोयल का। एक कार्यक्रम अवॉर्ड्स फॉर कॉरपोरेट एक्सिलेंस, 2019 में गोयल ने उद्योगपतियों, कंपनियों के हेड और राजनेताओं को बताया, ‘जब हम एफटीए (फ्री ट्रेड एग्रीमेंट) की बात करते हैं, जब हम अमेरिका के साथ ट्रेड डील के बारे में बात करते हैं तो यह सुनिश्चित किया जाता है कि देश, हमारी इंडस्ट्री और हमारे लोगों के हित को आगे रखा जाए।’ उन्होंने कहा कि यह एक विश्वास से भरे और पहले से मजबूत भारत को दिखाता है, जिस पर फैसले करने के लिए दबाव नहीं डाला जा सकता, चाहे कोई देश या कंपनी कितना ही बड़ा निवेश क्यों न कर रहे हों। गोयल ने छोटे रिटेलर्स को एक बार फिर आश्वासन दिया कि बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों की ओर से दिए जा रहे भारी डिस्काउंट के खिलाफ लड़ाई में सरकार उनके साथ खड़ी होगी। उनका कहना था कि ये कंपनियां जो फंड लाई थीं, उसका इस्तेमाल ‘कम कीमतों’ के कारण हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए किया जा रहा है। इससे छोटे ट्रेडर्स के लिए कारोबार में बना रहना मुश्किल हो जाएगा और बड़े मार्केट पर इन कंपनियों का दबदबा होगा। उन्होंने बताया, एफटीए के जरिए होने वाले कम कॉस्ट वाले इम्पोर्ट और डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग के बीच समानता लाना पूरी तरह डब्ल्यूटीओ के नियमों के अनुसार है। इससे यह सुनिश्चित किया जा सकेगा कि हमारी इंडस्ट्री पर गलत कॉस्ट का भार न पड़े।’ गोयल ने कहा, ‘दुनिया में बहुत से देशों में इंटरेस्ट रेट नेगेटिव है। बहुत अधिक फंड रखने वाले देशों की भी बड़ी संख्या है। ये भारतीय मार्केट पर कब्जा करने के लिए भारी निवेश कर सकते हैं। देश के रिटेल सेक्टर को बर्बाद करने के बाद इनके पास अपनी मर्जी से कारोबार करने की छूट होगी। मुझे लगता है कि कोई भी जिम्मेदार सरकार ऐसा नहीं होने देगी।’

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close