चुनावदिल्लीराज्य

नई दिल्ली : गौतम गंभीर की सीट में भाजपाई करा रहे भीतरघात

नई दिल्ली, लोकसत्य. ईस्ट दिल्ली लोकसभा सीट आये दिन किसी ने किसी मसले को लेकर हॉट सीट बनी हुई है। टिकट मिलने के बाद से ईस्ट दिल्ली से भाजपा के प्रत्याशी और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर को जहां आम आदमी पार्टी ने दो वोटर कार्ड के मामले पर घेरा हुआ है। वहीं कांग्रेस के प्रत्याशी अरविंदर सिंह लवली गौतम गंभीर पर ‘पिकनिक’ मनाने आने का तमगा देकर बाहरी प्रत्याशी के रूप में घेरे हुये हैं। इसकी बाकी कसर अब ईस्ट दिल्ली के दिग्गज भाजपा नेता पूरी कर दे रहे हैं। बाहरी प्रत्याशी उतारे जाने से अंदरखाने स्थानीय नेता भी खुश नहीं है। इन नेताओं ने गंभीर को शिकस्त दिलाने के लिये भीतरघात बिसात बिछानी शुरू कर दी है।


इस बीच देखा जाए तो अपनों के द्वारा अंदरखाने शिकार बनाये रहे गौतम गंभीर को इसका अभी कोई आभास तक नहीं है। इसकी बानगी सोमवार को पटपड़गंज स्थित राधाकृष्ण कुंज, अग्रसेन अपार्टमेंट में सेवा भारती (पूर्वी विभाग) की ओर से आयोजित एक अहम बैठक में देखी गई। सोमवार दोपहर ढाई बजे बुलाई गई इस बैठक में सेवा भारती के प्रान्त अध्यक्ष तरूण के अलावा बतौर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर जिनको ईस्ट दिल्ली का प्रत्याशी बनाया गया, उनको विशेष आमंत्रित अतिथि के रूप में बुलाया गया था। इसमें विभाग, जिला, नगर, बस्ती कार्यकर्ता, शिक्षिका निरीक्षका बहनें, भजन मंडली प्रमुखा, विभाग में रहने वाले प्रान्त के कार्यकर्ता आदि सभी को बुलाया गया था। इसमें करीब 400 से ज्यादा लोग शामिल हुये।


इतना ही नहीं इसमें गौतम गंभीर के साथ उनके सबसे बड़े सिपहसालार माने जाने विश्वास नगर के भाजपा विधायक ओम प्रकाश शर्मा भी पंहुचे। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि कुछ विचार आदान-प्रदान करने के लिये आमंत्रित किये गये पूर्व क्रिकेटर और ईस्ट दिल्ली के भाजपा प्रत्याशी गौतम गंभीर को एक शब्द बोलने तक का मौका नहीं दिया गया। बताया जाता है कि उनके सिपहसालार की ओर से हिदायत दी गई कि इस मीटिंग में उनको कुछ भी विचार रखने की जरूरत नहीं है। जबकि माना यह जा रहा था कि इस मीटिंग के जरिये संघ के लोगों और उसमें शिरकत करने वाले लोगों से रूबरू होते हुये वह अपनी भावनाओं को व्यक्त करेंगे। लेकिन उनको इस मीटिंग में कुछ भी नहीं बोलने देने की हिदायत देना इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है।


बताया जाता है कि इस तरह की रणनीति और सलाह देना पार्टी में भीतरघात की स्थिति को बल देने जैसा माना जा रहा है। इस बीच देखा जाए तो इस सीट पर सीटिंग सांसद महेश गिरी के अलावा विश्वास नगर से भाजपा के विधायक ओमप्रकाश शर्मा भी प्रबल दावेदारों की लिस्ट में थे। शर्मा वित्त मंत्री अरुण जेटली के बेहद करीबी माने जाते हैं। वहीं गौतम गंभीर को टिकट देने के बाद गिरी व शर्मा सैकेंड नंबर पर आ गये थे। हालांकि सीटिंग सांसद गिरी तो नहीं लेकिन ओपी शर्मा लगातार गंभीर के साथ हर मीटिंग व रोड शो में लगातार शामिल हो रहे हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close