चुनावदेशपश्चिम बंगालबड़ी खबरेंराज्य

चुनाव आयोग Cooch Behar Violence में हुई मौतों को लेकर करे कड़ी कार्रवाई: PM Modi

खवाखली (लोकसत्य)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने Cooch Behar में चुनाव के दौरान पहली बार मतदान करने वाले एक मतदाता समेत पांच लाेगों के मारे जाने पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए चुनाव आयोग से इस घटना के आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग की है।

मोदी ने उत्तरी बंगाल में चाय बागान वाले इस इलाके में शनिवार को एक जन सभा को संबोधित करते हुए कहा, “कूचबिहार में जो कुछ हुआ वह बहुत ही दुखद है। मेरी संवेदनायें मृतकों के परिजनों के साथ हैं। मैं उनके निधन पर शोक व्यक्त करता हूं।”

मोदी ने मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी पर अपने समर्थकों को केंद्रीय बलों के खिलाफ भड़काने का आरोप लगाते हुए उन पर कड़ा प्रहार किया। उन्होंने कहा, “दीदी एवं उनके गुंडे भाजपा के समर्थन को देख कर घबरा गये हैं। अपने हाथों से कुर्सी फिसलती देख वे इस स्तर तक पहुंच गयी हैं।”

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री पर अपने समर्थकों को केंद्रीय बलों के खिलाफ भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्रीय बल मतदाताओं को अपने मताधिकार का प्रयोग स्वतंत्र रूप से सुनिश्चित कराने के लिए यहां तैनात किये गये हैं।

इस बीच, तृणमूल प्रमुख बनर्जी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से चुनाव के चौथे चरण में कूचविहार के शीतलकुची में केंद्रीय बलों की फायरिंग में पांच लोगों के मारे जाने पर स्पष्टीकरण देने की मांग की है। उन्होंने दावा किया कि वह केंद्रीय बलों के ‘अत्याचार’ को देखते हुए लंबे समय से ऐसी घटना की आशंका व्यक्त कर रही थीं।
उन्होंने कहा, “इतने सारे लोगों के मारे जाने के बाद वे (चुनाव आयोग) कह रहे हैं कि फायरिंग आत्म रक्षा में की गयी। उन्हें शर्म आनी चाहिए। यह साफ झूठ है।”

मोदी ने अपने संबोधन में कहा, “दीदी यह हिंसा, केंद्रीय बलों पर हमले के लिए लोगों को भड़काने की चाल और चुनाव प्रक्रिया में बाधा डालने की नीति आप को बचा नहीं पाएगी। इस प्रकार की हिंसा आपको 10 वर्षाें के कुशासन से रक्षा नहीं कर पाएगी।”

उन्होंने कहा, “मैं दीदी, तृणमूल और उनके गुंडों को स्प्ष्ट रूप से बताना चाहूंगा कि उनके तरीके को बंगाल में काम करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मैं चुनाव आयोग से अपील करता हूँ कि कूचविहार घटना के दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाये।” मोदी ने कहा कि तृणमूल सरकार की हार तय है। उन्होंने दावा किया कि दो मई के बाद राज्य में डबल इंजन की सरकार का गठन होगा।

मोदी ने आरोप लगाया कि तृणमूल सरकार ने पिछले 10 वर्षाें के दौरान उत्तरी बंगाल की सुरक्षा मसले को पूरी तरह नजरअंदाज किया, जहां तीन अंतरराष्ट्रीय सीमायें हैं। उन्होंने कहा, “उत्तरी बंगाल राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले को लेकर काफी संवेदनशील है लेकिन तृणमूल ने तुष्टीकरण की नीति के चलते इसे नजरअंदाज किया।”

मोदी ने कहा कि तृणमूल ने अनुसूचित जाति के लोगों का भी अपमान किया। उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल के एक नेता ने उनकी (अनुसूचित जाति/जनजाति) की तुलना भिखारियों से की। उन्होंने गोरखा समुदाय की तारीफ करते हुए कहा कि वे हमेशा देश की सुरक्षा में अग्रिम पंक्ति में खड़े रहे।

इस बीच, कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस ने एक बयान जारी कर कहा, “हमें गहरी चिंता एवं दुख के साथ कहना पड़ रहा है। केंद्रीय बलों की माताभंगा में की गई फायरिंग ने चार लोगों की जान गयी तथा चार अन्य घायल हो गये। हम यह भी कहना चाहते हैं कि केंद्रीय बल अपराध कर रहे हैं और सभी सीमाओं को पार कर रहे हैं। चुनाव आयोग को इस मामले में स्पष्टीकरण देना चाहिए।”

तृणमूल की राज्य सभा सांसद डोला सेन ने कहा कि जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्रीय बलों की ज्यादतियों के मसले को उठाया तो उन्हें चुनाव आयोग की ओर से दो नोटिस जारी कर दिये गये।

दूसरी ओर, चुनाव आयोग ने हिंसा से प्रभावित कूचबिहार के मतदान केंद्र पर मतदान स्थगित कर दिया है। आयोग ने विशेष चुनाव पर्यवेक्षक की अंंतरिम रिपोर्ट के आधार पर कूचबिहार के शीतलकूची विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 125 पर मतदान स्थगित करने का आदेश दिया है। विशेष पर्यवेक्षक और मुख्य चुनाव अधिकारी से शाम पांच बजे तक घटना के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close