लाइफस्टाइल

दो सप्ताह खाली बैठने पर स्वास्थ्य में आने लगती है गिरावट

नई दिल्ली (लोकसत्य)। सेहत के प्रति उदासीन रहने वालों को यह खबर चिंता में डाल सकती है। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि केवल दो सप्ताह घर में खाली बैठने से व्यक्ति की सेहत में गिरावट आने लगती है। लंबे समय तक यही स्थिति रहने पर टाइप-2 डायबिटीज, हृदय संबंधी बीमारी और आघात का खतरा बढ़ जाता है। यह अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ लिवरपूल में किया गया है। शोध में विशेषज्ञों ने कहा कि शारीरिक सक्रियता की कमी दो सप्ताह में ही सेहत बिगाड़ना शुरू कर देती है। इस तरह का जीवन जीने वाले लोगों में लंबे समय में गंभीर बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि शारीरिक शिथिलता के प्रभाव को कुछ आसान उपायों की मदद से कम किया जा सकता है। ऑफिस में ज्यादातर समय कुर्सी पर बैठे रहना, कार से ऑफिस जाना या छुट्टियों में कोई खास शारीरिक श्रम नहीं करना काफी हानिकारक होता है। इससे बचने के लिए ऑफिस में लिफ्ट के स्थान सीढ़ी का इस्तेमाल करना बेहतर होगा।

अगर बस से ऑफिस जा रहे हैं, तो कुछ दूर पैदल चलना अच्छा होगा या ऑनलाइन शॉपिंग करने से अच्छा है बाजार से खरीदारी करना। प्रमुख शोधकर्ता डॉक्टर डेनियल क्यूथबर्टसन का कहना है कि शिथिल जीवनशैली के कारण भविष्य की बीमारियों का लेखा-जोखा तैयार होने लगता है। इस अध्ययन के लिए विशेषज्ञों ने 36 साल की औसत उम्र के 450 लोगों के आंकड़ों का आकलन किया। इस दौरान उन्होंने शारीरिक रूप से सक्रिय और अधिकांश तौर पर शिथिल रहने वाले लोगों की सेहत का तुलनात्मक अध्ययन किया।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close