लाइफस्टाइल

जानें, घर में कहाँ रखें झाड़ू व कूड़ेदान?

नई दिल्ली (लोकसत्य)। ज्योतिष व् वास्तु दोनों ही शास्त्रों में झाड़ू को पूजन्य माना गया है क्योंकि इसे माँ लक्ष्मी से जोड़ा गया है माना गया है कि झाड़ू पर पैर लगने से मां लक्ष्मी का अनादर होता है, अगर ऐसा हो जाए तो तुरंत मां लक्ष्मी से क्षमा-प्रार्थना कर लेनी चाहिए।झाड़ू व् कूड़े दान कि दिशा यदि गलत होती है तो यह आपके घर में नकरात्मकता का फैलाव कर सकती है। घर में सुख का वास हो और संबधों में शांति बनी रहे इसके लिए घर का वास्तु दोष से मुक्त होना बहुत जरूरी है।

घर में मौजूद छोटा सा छोटा सामान आपको वास्तु के अनुसार सही दिशा में रखना चाहिए। यहां तक की घर में रखे कूड़ादान को भी दिशा के हिसाब से रखना जरूरी है। यदि आप घर में डस्टबीन को सही दिशा में नहीं रखती हैं तो यह आपके परिवार के लिए अशुभ हो सकता है। ऐसे में झाड़ू व कूड़ेदान को कहीं भी रखते समय इन खास बातों का ख्याल अवश्य रखें।

आप झाड़ू रखने के लिए एक खास जगह को चुन लें। झाड़ू हमेशा ऐसी जगह रखे जहां वह आते जाते लोगो को नज़र न पड़े। वहां पर कभी भी झाड़ू ना रखें जहां पर जेवरात या कीमती सामान हो या फिर तिजोर है. ऐसा करने से आपके कारोबार-संपत्ति पर बुरा असर पड़ने लगता है। झाड़ू को बेड के निचे भूल कर भी न रखें।

झाड़ू को कभी भी खड़ा करके न रखें। इस अवस्था में झाड़ू बड़ी अपशगुन मानी जाती है। झाड़ू को हमेशा जमीन पर लेटाकर ही रखें. इससे आपकी जेब या बैंक बैलेंस कभी खाली नहीं रहेगा।

हमारे बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि शाम के वक्त झाड़ू नहीं लगाना चाहिए औऱ ये सही भी है क्योंकि ऐसा करने से मां लक्ष्मी बुरा मान जाती है। इसलिए शाम या रात के समय घर या ऑफिस में झाड़ू न लगाएं। यदि मजबूरन ऐसा करना पड़ रहा है तो कम से कम कचरा बाहर न निकालें।

कूड़ेदान
कूड़ेदान को बेड रूम में कभी न रखें। ऐसा करने से पति पत्नी के बीच लड़ाई झगड़े लगे रहते हैं। खासतौर पर जिस डस्टबिन में आप बाल फेंकते हैं, ऐसा करने से आपके इर्द गिर्द नकारात्मकता का वास होगा।

घर की नार्थ ईस्ट दिशा में कूड़ादान न रखें क्योंकि यह आपके मानसिक स्वास्थ्य और एक संरचित विचार प्रक्रिया में हस्तक्षेप करेगा। उत्तर.पूर्व दिशा में कचरा रखने से भी आर्थिक समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं।

घर में झाड़ू और कूड़ेदान आदि भवन के ईशान कोण एंव पूजा गृह के निकट नहीं होने चाहिये। पूजा घर की सफाई हेतु झाड़ू और पोछा अलग अलग होना चाहिये। घर के पूर्वी भाग में रखा कूड़ादान और अन्य उपकरण आपको सदैव सफाई के लिए प्रेरित करते रहेंगे। इससे घर में स्वच्छता के साथ साथ सुख और शांति का भी निवास होगा।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close