लाइफस्टाइल

सपने में खुद को नहाते हुए देखने के है कई मायने

नई दिल्ली, (लोकसत्य)। आप सपने में क्या देखोगे, किसे देखोगे, इस बात को कोई नियंत्रित नहीं कर सकता हैं। सोते समय सपने देखना हमारी जिदंगी का आम हिस्सा है। कई बार हम सपने में कोई खास चीज देख लेते हैं और फिर सोच में पड जाते हैं कि क्या इस सपने का कोई मतलब है! क्या इन सपनों का हमारी जिंदगी से जुड़ी किसी चीज की ओर इशारा कर रहा है। इन प्रश्नों का उत्तर समुद्र शास्त्र में विस्तार से दिया गया है। समुद्र शास्त्र की एक शाखा है स्वप्न शास्त्र, जिसमें सपने आने के क्या-क्या लाभ या हानि होते हैं इसकी चर्चा विस्तार से है। सपने में जहां एक ओर किसी वास्तु को देखना शुभ संकेतों की ओर इशारा करता है।

वहीं दूसरी ओर अशुभ संकेतों के बारे में भी संकेत देते हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक स्वप्न के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखना शुभ-अशुभ दोनों स्थिति की ओर इशारा करता है। स्वप्न शास्त्र के अनुसार, सपने में खुद को नहाते हुए देखने के कई मायने होते हैं। सपने में खुद को नहाते देखना इस बात पर निर्भर करता है कि आप कहां स्नान कर रहे हैं। सपने में यदि आप किसी अपने को दरिया में नहाते देखते हैं तो यह शुभ संकेत माना जाता है। इस स्वप्न को देखने का मतलब होता है कि आपके जो भी रोग हैं वो जल्द ही नष्ट हो जाएंगे। लेकिन, यदि आप सपने में खुद को किसी तालाब में नहाते देखते हैं तो यह कुछ अशुभ संकेत की ओर इशारा करता है। इस सपने को देखना यह संकेत देता है कि आपको आने वाले समय में शत्रु से हानि हो सकता है।

यदि आप एक पुरुष है और किसी महिला को सपने में नहाते हुए देखते हैं तो इसका मतलब है कि आपके जीवन में जल्द ही कोई खूबसूरत लडक़ी आने वाली है। लेकिन, यदि किसी पुरुष को नहाते हुए देखते हैं तो जल्द ही आपके आसपास का कोई व्यक्ति आपको धोखा देने वाला है। अगर कोई महिला पुरुष को नहाता देखती है तो जल्द ही उसे सच्चा प्यार मिलने वाला होता है। वहीं हकीकत में अगर आप किसी महिला को नहाते हुए देखना सबसे बड़ा पाप माना जाता हैं। अगर आप भी इस तरह का गलतियां करते हैं तो आपको संभलने की बहुत ज्यादा जरुरत हैं। हमारे साथ कई बार ऐसे भी होता हैं की हम जाने अनजाने में इस तरह का गलतियां कर बैठते हैं। अगर किसी महिला को ऐसे करते हुए ऐसे देखते हैं तो आप आज से ही देखना बंद कर दीजिए ये सबसे बड़ा पाप होता हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close