लाइफस्टाइलहेल्थ

फैलते Bird Flu में क्या चिकन खाना है सही, जानने के लिए पढ़िए पूरी खबर

नई दिल्ली (लोकसत्य)। कोरोना के बाद अब एक नया फ्लू आ गया है जिसके वजह से केरला जैसे जगहो पर एड अलर्ट जारी कर दिया गया है। वैसे आपने “बर्ड फ्लू” के बारे में तो सुना ही होगा। आपको बता दे कि, ये पक्षियों से होने वाले फ्लू का मानव संस्करण है जिसे “एवियन इन्फ्लूएंजा” के नाम से जाना जाता है। बता दे कि, शुरुआती दौर में ऐसा कहा जा रहा था कि स्पेनिश फ्लू की तरह ठीक बर्ड फ्लू भी इंसानों में महामारी का रूप वक़्त आने पर ले लेगा, लेकिन अब तक ऐसा देखा नहीं गया है।

वैसे अगर देखा जाए तो आदमी में बर्ड फ्लू का हिस्ट्री काफी छोटा रहा है। आपको शायद पता हो कि इंसानों में एविएन इन्फ्लुएन्ज़ा यानी की बर्ड फ्लू से इन्फेक्शन का सबसे पहला मामला 1997 में देखा गया था। आपको बता दे कि, इस इन्फेक्शन की शुरुआत पक्षियों से ही होती है। बता दे कि, अगर कोई भी व्यक्ति इन्फेक्टेड पक्षियों या फिर उनके इन्फेक्टेड पंख या मल के संपर्क में आ जाए तो उसे भी ये बर्ड फ्लू होने की आशंका रहती है।

वैसे क्या आपने कभी गौर किया है कि जब भी बात बर्ड फ्लू की आती है तो सीधा सबका आकर्षण का केंद्र होता है चिकन और अंडो और फिर सबके मन में एक सवाल की क्या ये सुरक्षित है या नहीं। इसलिए आज आपतो बता दें कि ये बीमारी मुर्गी खाने से नहीं होती ना होगी, क्यूंकि अगर चिकन क ढंग से पकाया जाए, तो आप इसका सेवन आराम से कर सकते हैं।

वहीं, अगर संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन यानी की एफएओ और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की मानें तो उनके द्वारा जारी किए गए विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी की WHO के संयुक्त बयान के हिसाब से कहा गया है कि अगर खाने को ठीक से पकाया जाए तो चिकन खाने के लिए बहुत सुरक्षित हैं। लेकिन इसके साथ ही ये भी साफ किया गया है कि इस बात का भी भरपूर ख्याल रखना ज़रूरी है कि इन्फेक्टेड पक्षी इस फूड चेन का हिस्सा कतई ना बन पाएं।

क्योंकि WHO ने ये साफ़ कहा है कि जिन क्षेत्रों में पोल्ट्री में एवियन इन्फ्लूएंज़ा का प्रकोप थोड़ा भी नहीं है, वहां इसको खाने से संक्रमण या मौत का ख़तरा कैसे भी नहीं है। वैसे सबसे जरुरी बात की अभी तक ऐसा कोई भी मामला सामने नहीं आया है जिसमें मांस खाने से किसी को बर्ड फ्लू हो गया हो।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close