देश

देश में 3 माह में नक्सली हिंसा की 39 वारदातें

रायपुर, लोकसत्य। लोकसभा चुनाव के मतदान से महज 39 घंटे पहले मंगलवार शाम को छत्तीसगढ़ का बस्तर इलाका नक्सली धमाकों से हिल गया। इस हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मौत हो गई, वहीं चार जवान भी शहीद हो गए। इस घटना ने न केवल छत्तीसगढ़, बल्कि देश का ध्यान एक बार फिर नक्सल की ओर खींचा है। आंकड़ों पर गौर करें तो देश में पनप रहे इस नक्सलवाद की महज चार माह में ही 39 घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें 11 जवान शहीद हो गए, जबकि 20 नागरिकों ने भी अपनी जान गंवाई। खास बात यह है कि अकेले छत्तीसगढ़ में ही 10 घटनाएं हुईं। जिसमें 4 नागरिकों की मौत के साथ ही 10 जवान भी शहीद हुए हैं।

पिछले कुछ सालों में नक्सली हमले में जवानों की शहादत में आई कमी

साउथ एशिया टेररिज्म पोर्टल के ओपन डेटाबेस के अनुसार, जनवरी 2019 से 8 अप्रैल 2019 तक देश में कुल 38 माओवादी हमले हो चुके थे। इन हमलों में जहां 7 जवान शहीद हुए, वहीं 19 नागरिक और 41 नक्सली भी मारे गए। वहीं छत्तीसगढ़ में हुए हमले के बाद यह आकंड़ा एक दिन बाद ही बढ़ गया है। हालंकि पिछले कुछ सालों में इस तरह के नक्सली हमलों में जवानों के शहीद होने की संख्या में कमी आई है।

वर्ष 2014 तक देश में 185 नक्सली हमले हो चुके थे। जबकि इससे उलट छत्तीसगढ़ में पिछले 5 सालों में नक्सली वारदातों में इजाफा ही हुआ है। वर्ष 2014 में जहां 53 नक्सली वारदातों में 25 नागरिकों ने जान गंवाई व 63 जवान शहीद हुए, वहीं वर्ष 2018 के दिसंबर तक घटनाओं का आंकड़ा बढ़कर 134 पर पहुंच गया। इन हमलों में 59 नागरिक मारे गए और 57 जवान शहीद हुए। हालांकि इन 5 सालों में 433 नक्सली भी मारे गए।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close