देशबड़ी खबरें

मोदी ‘विकास और सुशासन के प्रामाणिक ब्रांड’: नकवी

कोलकाता, लोकसत्य । केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को कोलकाता में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘विकास और सुशासन के प्रामाणिक ब्रांड’ है। नकवी ने रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मोदी सरकार के पिछले पांच वर्ष ‘परफॉरमेंस, प्रोग्रेस एवं प्रोस्पेरिटी’ के वर्ष साबित हुए हैं। विपक्ष की ‘नकारात्मक एवं अवरोधकारी राजनीति’ के बावजूद मोदी सरकार ने हर तबके के लोगों के विकास के लिए पूरी ईमानदारी एवं मेहनत के साथ काम किया है। उन्होंने कहा कि पहले ‘गाली गैंग’ का गुस्सा सिर्फ प्रधानमंत्री पर था, लेकिन अब उनका गुस्सा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर भी है। इससे साबित होता है कि विपक्ष ने चुनावी जंग पूरी होने से पहले ही आत्मसमर्पण कर दिया है।
केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कांग्रेस और उसके कुछ साथियों का ‘सामंती सुरूर’और ‘शहंशाही गुरुर’चुनावी नतीजों के बाद काफूर हो जायेगा। जिस प्रधानमंत्री ने सुशासन को ‘राष्ट्रनीति’और समावेशी विकास को ‘राष्ट्रधर्म’ बनाने के संकल्प के साथ काम किया है, उन्हें अपमानित करने और गाली देने की सारी सीमाएं पार की गई हैं। दिन-रात, बिना थके-बिना रुके देश के सम्मान, सुरक्षा और समृद्धि के लिए काम करने वाले प्रधानमंत्री का अपमान करने वाले लोगों को देश की जनता आगामी 23 मई को सबक सिखाएगी।
नकवी ने कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद कई राजनैतिक दलों की मान्यता खतरे में पड़ जाएगी। इसलिए कई राजनैतिक दल चुनाव के नतीजे से पहले और बाद में, सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि अपने-अपने दल के अस्तित्व को बचाने के लिए एकजुट हो रहे हैं।
भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कोलकाता में एकत्रित हुई ‘मोदी हटाओ मण्डली’अब‘ईवीएम विलाप मण्डली’ बन गई है। राजनैतिक स्वार्थों के टकराव के कारण ये दल न तो चुनाव से पहले एक हो पाए हैं न ही चुनाव नतीजों के बाद एकजुट हो पाएंगे। उन्होंने स्पष्ट कहा केंद्र में सरकार‘जुगाड़ और जोड़ तोड़ की नहीं’बल्कि मोदी के नेतृत्व में स्पष्ट जनादेश की बनेगी।
नकवी ने कहा दीदी कि ‘अकड़ और अहंकार का जंतर मंतर’23 मई को ‘छूमंतर’हो जायेगा। तृणमूल कांग्रेस सत्ता को ‘अराजकता की प्रयोगशाला’ बनाना चाहती है। ‘सत्यमेव जयते की विरासत’ को ये लोग ‘झूठमेव जयते की सियासत’में बदलने का प्रयास कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि देश को ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जिसने राजनीति को कभी देश की भलाई के आड़े नहीं आने दिया। मोदी ने राजनीतिक फायदे-नुकसान की परवाह किये बिना देशहित, जनहित में कई बड़े एवं कड़े फैसले लिए। इन फैसलों ने साबित कर दिया है कि प्रधानमंत्री ‘नामुमकिन को मुमकिन बनाने की मजबूत शख्सियत का प्रामाणिक नाम” हैं। नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने नोटबंदी, वस्तु एवं सेवा कर, सामान्य वर्गों के पिछड़े लोगों को सरकारी नौकरियों-शिक्षा संस्थानों में 10 फीसदी आरक्षण, ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’,‘उज्ज्वला योजना’,‘प्रधानमंत्री जन धन योजना’,‘आयुष्मान भारत’जैसे सुधारवादी एवं ऐतिहासिक कदम उठाये गए। इनसे समाज के हर जरूरतमंद की ‘आँखों में ख़ुशी, जिंदगी में खुशहाली’ सुनिश्चित हुई है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close