देश

आम बजट: वित्त मंत्री ने की बजट घोषणाएं तो विपक्ष ने किया कटाक्ष, राहुल, केजरीवाल, येचुरी, सिंघवी ने साधा निशाना

नई दिल्ली, लोकसत्य। केंद्रीय वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से संसद में मोदी सरकार का दूसरा बजट पेश किया। वित्त मंत्री सीतारमण ने अपने दूसरे आम बजट में भले ही तमिल कवि तिरुवल्लुवर की कविता का जिक्र कर पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफों के पुल बांधे हों। लेकिन विपक्ष को उनका इस अंदाज में पेश किया बजट रास नहीं आया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस बजट को दिशाहीन और बेरोजगारी दूर नहीं करने वाला बताया है। साथ ही टीएमसी, आम आदमी पार्टी और माकपा ने भी बजट पर कटाक्ष करते हुये आलोचना की है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के भाषण को बहुत लंबा बताया। उन्होंने कहा कि इसमें नया कुछ भी नहीं था। उन्होंने आरोप लगाया कि बजट में कुछ भी ठोस नहीं था। सबसे बड़ा मसला बेरोजगारी है। मुझे नहीं लगता है कि सरकार के पास कोई ठोस ऱणनीति है जिससे युवाओं को रोजगार मिल सके। सिर्फ दांव पेंच ही अधिक है। लेकिन ठोस कुछ नहीं है। वास्तव में यह बजट सरकार के चाल चरित्र ही को पेश करता है। सिर्फ बातें-बातें और जमीन पर कुछ नहीं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बजट पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दिल्ली की बजट से काफी उम्मीदें थीं। लेकिन इसके साथ एक बार फिर सौतेला व्यवहार किया गया है। भाजपा की प्राथमिकताओं में दिल्ली शामिल नहीं। लोग उसे वोट क्यों दें? वहीं, तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि सरकार ने ऐसे देश में बचत के लिए प्रोत्साहन को हटाया जहां सामाजिक सुरक्षा नहीं है। कर में मिलने वाली 100 में से 70 छूटों को वापस लिया है।

माकपा ने केंद्रीय बजट की आलोचना करते हुए कहा कि इसमें सिर्फ बेकार की बातें हैं और यह लोगों की समस्याओं का समाधान नहीं करता है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि इसमें लोगों की दिक्कतें दूर करने के लिए कुछ नहीं किया गया। उन्होंने ट्वीट किया कि सिर्फ बेकार की बातें और जुमले हैं। इसमें लोगों की दिक्कतें दूर करने, बढ़ती बेरोजगारी, गांवों में मजदूरी भुगतान संकट, परेशान किसानों की आत्महत्या करने जैसी समस्याओं का कोई ठोस समाधान नहीं है।

कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट करके कहा कि दुश्मन न करे दोस्त ने जो काम किया है, सालभर का गम, गरीबों पर जुल्मो सितम, फिर से जनता को इनाम दिया है। वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि निर्मला सीतारमण बजट का गणित समझाने में विफल रही हैं। 4.8 फीसदी की जीडीपी वृद्धि के साथ 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य एक पाइप ड्रीम है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close