देशविदेश

Earth Anthem का 70 से अधिक भाषाओं में अनुवाद

अनातावरियो (लोकसत्य)। एक्यावनवें (51वें) पृथ्वी दिवस समारोह के अवसर पर भारतीय कवि-राजनयिक अभय की लिखित Earth Anthem का अब तक संस्कृत, गुजराती, मगही, मैथिली, मराठी, मिज़िंग, कोकबोरोक, राजस्थानी एवं अर्मेनियाई समेत कई भाषाओं और बोलियों में अनुवाद किया जा चुका है।

यह सांकेतिक भाषा में भी निर्मित किया गया है ताकि इसे दुनिया भर में अधिक व्यापक रूप से उपलब्ध कराया जा सके। इस अवसर पर 100 से अधिक प्रख्यात कवियों, संगीतकारों, अभिनेताओं, गायकों, कलाकारों, प्रोफेसरों और ग्रह भर के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने पृथ्वी पर जीवन की सुंदरता और विविधता का जश्न मनाने और उन्हें व्यक्त करने के लिए विभिन्न भाषाओं में पृथ्वी गान को पढ़ने और रिकॉर्ड करने में भाग लिया। साथ ही पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता हानि और पर्यावरण प्रदूषण के खिलाफ चिंता भी व्यक्त की। उनके पठन की रिकॉर्डिंग कविशाला पर उपलब्ध है, जो एक वैश्विक कविता मंच है।

प्रतिभागियों में रमन मैग्सेसे पुरस्कार विजेता राजेंद्र सिंह, जिन्हें भारत के जल पुरुष के रूप में भी जाना जाता है, अभिनेत्री मनीषा कोइराला, ब्रिटिश कवि रूथ पडेल, वन्य जीव संरक्षणवादी विवेक मेनन, इरिट्रिया में यूनिसेफ की देश प्रतिनिधि शाहीन निलोफर, ब्रुनेई में बांग्लादेश की उच्चायुक्त शुमोना इकबाल, तंजानिया के कवि चार्लोट हिल ओ ‘नील, प्रसिद्ध ब्राजीलियाई कलाकार मारिया हेलेना एंड्रेस, चीनी-अमेरिकी अभिनेता रॉबर्ट लिन, जापानी गायक मिहो नामातेम और अन्य प्रमुख लोग शामिल थे।

राजनयिक अभय ने पहली बार वर्ष 2008 में पृथ्वी गान लिखा था, जब वह रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में पदस्थ थे। तब से अब इसका 70 से अधिक वैश्विक भाषाओं में अनुवाद किया गया है और पृथ्वी दिवस और विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के लिए दुनिया भर में इसे पढ़ा और प्रदर्शन किया जाता है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close