स्पोर्ट्स

Sardar Singh से बहुत कुछ सीखने की कोशिश की: Vishal

नई दिल्ली (लोकसत्य)। भारतीय Hockey Team के आक्रामक मिडफील्डर Vishal Antil ने कहा है कि भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और शानदार खिलाड़ी Sardar Singh हमेशा से उनके आदर्श रहे हैं और उन्होंने उनसे बहुत सीखने का प्रयास किया है।
Vishal ने कहा, “आपको Sardar Singh से बात करने की भी जरुरत नहीं हैं। आप उनके प्रतिदिन किये जाने वाले अभ्यास या रूटीन को देख कर ही बहुत कुछ सीख सकते हैं। वह बहुत अनुशासित है और उन्होंने कभी भी बाहरी चीजों को मानसिक रूप से प्रभावित नहीं होने दिया और हमेशा अपने शरीर का ध्यान रखा हैं।”
Vishal ने कहा, “Sardar Singh के कमरे की लाइट हमेशा साढ़े नौ बजे बंद हो जाती है और यह एक महान खिलाड़ी की पहचान हैं।” Vishal दरअसल वर्ष 2017 में बेंगलुरु स्थित Sport Authority of India (SAI) में जूनियर राष्ट्रीय कोचिंग शिविर में आये थे और उस दौरान सरदार सिंह परिसर में अभ्यास के लिए वहीं पर थे।
Vishal ने कहा, “किसी भी राष्ट्रीय स्तर के जूनियर खिलाड़ी के लिए Sardar Singh से बहुत कुछ सीखने को था। मुझे हालांकि कभी भी उनके साथ बातचीत करने का मौका नहीं मिला और न ही मेरे अंदर उनसे बात करने के लिए कभी हिम्मत जुट सकी। लेकिन मैंने हमेशा उनसे कुछ न कुछ सीखने का प्रयास किया और उनके अनुशासन से मैं बहुत प्रभावित हुआ।”

विशाल अंतिल पिछले साल टखने में हुए फ्रैक्चर के कारण छह-सात महीने तक नहीं खेल पाए थे और सुल्तान जोहोर कप में भी भाग नहीं ले सके थे जहां टीम दूसरे स्थान पर रही थी। विशाल चोट से उबरने के बाद बंगलादेश के ढाका में होने वाले जूनियर एशिया कप की तैयारी कर रहे थे जो हालांकि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण स्थगित हो गया।

मिडफील्डर खिलाड़ी ने टीम के प्रदर्शन को लेकर कहा, “टीम पिछले तीन साल से एक साथ खेल रही है और हमने एक टीम के तौर पर अच्छी लय हासिल कर ली है। हमने सुल्तान जोहोर कप में ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन जैसी टीमों के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया है।”

उन्होंने कहा, “इस समय मैं सोनीपत में सुमित के साथ अभ्यास कर रहा हूं और अपनी टीम के साथ अभ्यास शुरू करना चाहता हूं। अगले 18 महीने काफी अहम होने वाले हैं क्योंकि जूनियर वर्ल्ड कप आ रहा है। हालांकि जब वर्ल्ड कप होगा तो मैं वर्ल्ड कप के लिए तय की गई उम्र सीमा में नहीं होऊंगा लेकिन मैं जिस भी तरीके से टीम की मदद कर सकता हूं करूंगा।”

विशाल का 12 साल उम्र में हॉकी खेलने की शुरुआत की थी और चंडीगढ़ हॉकी अकादमी में अपने कौशल पर काम किया था। उन्होंने कहा, “मुझे वर्ष 2018 में विश्व कप के लिए लगे शिविर में बुलाया गया था जहां मैंने उस स्तर पर किस तरह से अभ्यास किया जाता है उसका अनुभव किया। ललित उपाध्याय, हरमनप्रीत और सुमित ने शुरूआती दिनों में बहुत मदद की और श्रीजेश तथा एसवी सुनील जैसे खिलाड़ियों को खेलते हुए देखना मेरे लिए बहुत अच्छा अनुभव था।”


 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close