चंडीगढ़राज्य

आढ़ती हड़ताल पर किसान परेशान

चंडीगढ़, लोकसत्य। लोस चुनाव के चुनावी मौसम में हरियाणा में आढ़ती, किसान और प्रदेश सरकार के बीच सियासी जंग शुरू हो गई है। किसानों की फसल पक कर मंडियों में पहुंच रही है आढ़ती सरकार के ई-ट्रेडिंग के फैसले से नाराज हैं। जिसके चलते किसान को दोनों की आपसी लड़ाई के बीच फंस कर नुकसान सहने के साथ-साथ तपती गर्मी में परेशानी का झेलनी पड़ रही है।

आढ़तियों ने सरकार के ई-ट्रेडिंग के फैसले के विरोध में आकर किसानों की फसल को खरीदना बंद कर दिया है। साथ ही सरकार से नाराज आढ़तियों का कहना है कि बीजेपी उनके काम को ठप करने पर तुली हुई है जोकि वह किसी कीमत पर बर्दास्त नहीं करेंगे। जिसको लेकर प्रदेश के अलग जगहों से मंडियों पर ताला जड़ने के खबरें आ रही है और आढ़ती सरकार के फैसले की विरोध कर ई-ट्रेडिंग के फैसले को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

रोहतक में भी मंडियों में आढ़ती ई-ट्रेडिंग व ऑनलाईन पेमेंट के विरोध में अपनी दुकानें बंद कर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। वहीं आढ़तियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। साथ ही आढ़तियों का कहना है कि सरकार उनके काम को खत्म करने पर तुली हुई है। पहले उन्हें ढ़ाई प्रतिशत कमीशन मिलता था, जो घटा कर 1 प्रतिशत कर दिया गया है। करनाल मंडी के भी बात करें तो वहां भी हालात ऐसे ही बने हुए है। आढ़तियों में सरकार के खिलाफ काफी रोष देखने को मिल रहा है। वहीं आढ़तीयो का कहना है कि यदि विरोध के बावजूद सरकार नहीं मानी तो 15 अप्रैल को करनाल में महारैली का आयोजन किया जाएगा। जिसमें प्रदेश भर से हजारों की संख्या में आढ़ती शामिल होंगे औऱ एक बड़े आंदोलन की शुरूआत करेंगे। वहीं करनाल की अनाज मंडी के प्रधान रजनीश चौधरी ने कहा सरकार हमे जबरदस्ती ई-ट्रेडिंग से फसल खरीदने का दबाव डाल रही है, जिसका वह विरोध कर रहे हैं।

हिसार अनाज मंडी में ऑनलाइन खरीद को लेकर, मंडी के गेटों पर किसान की फसल कंप्यूटर में दर्ज करने तोलने को लकेर व सारा लेखा-जोखा व्यापारियों का ऑनलाइन करने की विरोध में राज्यस्तरीय आढ़ती हड़ताल की। जिसमें व्यापारियों ने व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व हरियाणा कन्फेड के चेयरमैन बजरंग गर्ग, मंडी जिला प्रधान पवन गर्ग, मंडी प्रधान संजय गोयल की मौजूदगी में अनाज मंडी के बाहर धरना दिया। जिसमें भारी संख्या में व्यापारियों ने भाग लिया। व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि सरकार अनाज की खरीद में नई-नई शर्ते लगाकर देश के किसान व आढ़तियों को बर्बाद करने पर तुली हुई है। अनाज की खरीद किसी भी कीमत में ऑनलाइन नहीं की जाएगी। अनाज का एक भी दाना नहीं खरीदा जाएगा। अगर सरकार ने अपना तानाशाही फरमान वापस नहीं लिया तो अनाज मंडियों के समर्थन में 12 अप्रैल को व्यापार मंडल की राज्यस्तरीय बैठक करके पूरा हरियाणा बंद का आह्वान किया जाएगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close