उत्तराखंड

एम्स में तीन दिवसीय वार्षिक राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न

ऋषिकेश (उत्तराखंड)। एम्स ऋषिकेश में पीएमआर विभाग व इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजिकल मेडिसिन एंड रिहेबिलिटेशन के तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय वार्षिक राष्ट्रीय संगोष्ठी रविवार को विधिवत संपन्न हो गई। जिसमें विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई कि संगोष्ठी में किया गया मंथन भविष्य में ट्रामा से जुड़े मामलों में मरीजों के पुनर्वास में अहम भूमिका निभाएगा।
संगोष्ठी में सफदरजंग अस्पताल के डा.गुरप्रीत सिंह को सर्वश्रेष्ठ रिसर्च पेपर प्रजेंटेशन, पोस्टर में सेंट जॉन्स हास्पिटल बैंगलौर की डा. ऋचा व पीएमआर विभाग एम्स ऋषिकेश के डा. राहुल शर्मा को सम्मानित किया गया।
एम्स के फिजिकल एंड मेडिकल रिहेबिलिटेशन पीएमआर विभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वार्षिक संगोष्ठी पर अपने संदेश में संस्थान के निदेशक प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि एम्स ​भविष्य में पीएमआर विभाग को और अधिक सशक्त बनाने की दिशा में कार्य करेगा, जिससे दुर्घटना में ग्रसित होने वाले अधिकाधिक मरीजों को लाभ मिल सके।
उन्होंने बताया कि संस्थान पॉली ट्रामा के मरीजों के उपचार के साथ ही पुनर्वास को लेकर भी गंभीरता से कार्य कर रहा है।
इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजिकल मेडिसिन एंड रिहेबिलिटेशन आईएपीएमआर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय वाधवा ने बताया कि निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत के नेतृत्व में एम्स संस्थान बेहतर ढंग से प्रगतिशील है, उन्होंने इसे निदेशक की कार्यकुशलता व लंबे अनुभव का प्रतिफल बताया। कहा कि दुर्घटनाओं में घायल मरीजों के पुनर्वास को लेकर निदेशक प्रो. रवि कांत की संवेदनशीलता से ही एम्स में स्थापित पीएमआर विभाग प्रगति के साथ कार्य कर रहा है और इस तरह की राष्ट्रीय संगोष्ठी के आयोजन में समर्थ हो पाया है। संगोष्ठी में अस्थिरोग विशेषज्ञ डा. पंकज कंडवाल ने ट्रामा सर्जरी पर व्याख्यान प्रस्तुत किया। इस अवसर पर एम्स के डा. बलराम जीओमर,डा. संजय अग्रवाल,आईएपीएमआर की सचिव डा. नविता व्यास,आयोजन समिति की अध्यक्ष डा. राजलक्ष्मी एच. अय्यर, आयोजन सचिव डा. राजकुमार यादव, डा. ओसामा नेयाज, डा. विनय कन्नौजिया, डा. सुव्रत गुप्ता, डा. देवाशीष, डा. राहुल,डा. विनायक,डा. प्राची,डा. रिद्धिमा, आकृति, तनुज आदि ने सहयोग किया।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close