उत्तराखंड

छात्रवृत्ति घोटाले में पांच गिरफ्तार

हरिद्वार ( उत्तराखंड)। छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही एसआईटी करोड़ों की धोखाधड़ी करने वाले वाले तथाकथित मास्टर माइंड अपराधियों को चिंहित कर गिरफ्तार करने में जुटी है। एसआईटी प्रमुख मंजूनाथ टीसी के निर्देशन में कार्य कर रही एसआईटी आरोपियों को पूछताछ के बाद तमाम पुख्ता सबूतों के साथ गिरफ्तार कर रही है। एसआईटी ने मदरहुड विश्वविद्यालय की डायरेक्टर समेत पांच आरोपियों को लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। जिसके बाद से छात्रवृत्ति घोटाले में फंसे अन्य आरोपियों में हड़कंप मच गया है।

एसआईटी प्रमुख मंजूनाथ टीसी के निर्देशन में छात्रवृत्ति घोटालो की फाइलों को कुरेद कर विवेचना को आगे बढ़ाया तो रूड़की के नामी इंस्टीटयूट रिम्स इंस्टीटयूट आॅफ मैनेजमेंट एंड साइंस, मदरहुड इंस्टीटयूट आॅफ मैनेजमेंट एंड टेक्नालाॅजी भगवानपुर और महावीरा इंस्टीटयूट आॅफ इंजीनियरंिरंग एंड टेक्नालाॅजी के गडबड़झाले सामने आने लगे। एसआईटी की विवेचना में सामने आया कि रिम्स ने साल 2011-12 से लेकर साल 2016-17 तक सरकार से 145044539 करोड़ की छात्रवृत्ति हासिल की। जबकि मदरहुड ने इन्ही सालों में अलग-अलग वर्षो में 103507390 करोड़ की छात्रवृत्ति ली। महावीरा इंस्टीटयूट ने साल 2012-13 और साल 2013-14 में 28999290 करोड़ की छात्रवृत्ति सरकार से ली। जब इस छात्रवृत्ति के संबंध में काॅलेज संचालकों ने छात्रों के पंजीकरण की जानकारी ली गई तो वह एसआईटी को संतुष्ट नही कर पाए। इनमें से तमाम छात्रों का विश्वविद्यालय अथवा बोर्ड से एनरोलमेंट ही नही कराया गया था। जबकि सैंकड़ों की संख्या में काॅलेज और परीक्षा से अनुपस्थित पाए गए। विवेचना के दौरान कई छात्र ऐसे पाए गए जो कि काॅलेज में पढ़ना और बैठना नही पाया गया।

जबकि कई छात्रों के मोबाइल नंबर एक ही पाए गए। इसके अलावा तमाम ऐसी जानकारी एसआईटी को हाथ लगी जिससे साबित हुआ कि पूरा खेल छात्रवृत्ति की राशि का गबन करने के लिए किया गया है। इस तमाम सवालों के जवाब आरोपीगण एसआईटी को नही दे पाए। जिसके बाद गिरफ्तारी की कार्रवाई को पूरा किया गया। जिसके चलते उक्त संस्थानों की सचिव, चेयरमैन, कोषाध्यक्ष कुमारी मोनिका शर्मा पुत्री कुबेर दत्त शर्मा निवासी गोविंदपुरी, कंकड़खेड़ा जनपद मेरठ, हाल निवासी सचिव मदरहुड़, रिम्स और महावीर इंस्टीटयूट को गिरफ्तार किया गया।
आईएमएस इंस्टीटयूट आॅफ टेक्नालाॅजी रूड़की के मास्टर माइंड आरोपी
सचिव मोनिका शर्मा पुत्री कुबेर दत्त शर्मा निवासी गोविंदपुरी, कंकड़खेड़ा जनपद मेरठ,
क्लर्क -अंकुर राणा पुत्र विजय सिंह निवासी पश्चिमी अंबर तालाब, रूड़की
कोषाध्यक्ष-शरद गुप्ता पुत्र मामचंद गुप्ता निवासी जादूगर रोड़ सिविल लाइन रूड़की
सचिव -मुजीब मलिक पुत्र बदीदुदीन मलिक निवासी सिविल लाइन, रूड़की
सदस्य -योगेंद्र पाल पुत्र वीर अभिमुन्य निवासी सिविल लाइन, रूड़की जनपद हरिद्वार
गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम
सीओ सदर, एएसपी आयुष अग्रवाल, निरीक्षक कमल कुमार लंुठी सदस्य एसआईटी, उप निरीक्षक राजेंद्र खोलिया सदस्य एसआईटी, उप निरीक्षक मदन मोहन भट्ट सदस्य एसआईटी, उप निरीक्षक प्रमोद कुमार सदस्य एसआईटी और उप निरीक्षक भानु पंवार सदस्य एसआईटी

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close