उत्तराखंड

भ्रष्टाचार विकास में सबसे बढ़ी बाधा: सीएम

ऋषिकेश (लोकसत्य)। नगर निगम का एक वर्ष का कार्यकाल सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के अवसर पर भरत मंदिर इंटर कॉलेज प्रांगण में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती , पूर्व राज्यसभा सांसद मनोहर कान्त ध्यानी , महामण्डलेश्वर ईश्वरदास जी महाराज, एवं मेयर अनिता ममगाई ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर उत्तराखंड संस्कृति विभाग से आए लोक कलाकारों एवं विभिन्न विद्यालयों के छात्र छात्राओं ने सुंदर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नगर निगम ऋषिकेश के अन्तर्गत लगभग 3 करोड़ 80 लाख रूपये की विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने खाण्ड गांव बाईपास रोड एवं कृष्णा नगर कालोनी को नगर निगम ऋषिकेश में शामिल किये जाने, भरत मन्दिर इण्टर कॉलेज को फर्नीचर के लिए 10 लाख रूपये प्रदान करने। ऋषिकेश में लोक निर्माण विभाग के भवन का पुनरूद्धार कर एक अतिथि गृह बनाये जाने की घोषणा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नगर निगम ऋषिकेश के लिए 10 कूड़ा निस्तारण वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया एवं नगर निगम की विकास पुस्तिका ‘संकल्प से शिखर की ओर’ का विमोचन भी किया।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि ऋषिकेश नगर निगम में पिछले एक साल में विकास के अनेक कार्य हुए। 2021 में हरिद्वार में भव्य महाकुंभ का आयोजन किया जायेगा। इस महाकुंभ में करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु आयेंगे। इस दृष्टि से हमें सुनियोजित तरीके व तेजी से कार्य करने होंगे। ऋषिकेश में जो सीवरेज ओर पाईपलाईन का कार्य चल रहा है, उनमें और तेजी लाने के निर्देश उन्होंने दिये। विश्व में देवभूमि के रूप में उत्तराखण्ड की पहचान है। सरकार का प्रयास है कि धार्मिक स्थलों का नियोजित विकास हो। उत्तराखण्ड चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। इस वर्ष 36 लाख 50 हजार से अधिक श्रद्धालु चारधाम यात्रा पर आये। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रद्धालुओं को सुविधायुक्त तथा सुरक्षित कराना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि भ्रष्टाचार विकास में सबसे बड़ी बाधा है। उन्होंने कहा कि गत तीन वर्षों में जिस गति से प्रदेश का विकास हुआ है उतना पिछले 16 सालों में नहीं हुआ। प्रदेश में श्राईन बोर्ड के विरोध का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी के हक हकूक पर कुठाराघात की हमारी कतई मंशा नहीं है। उन्होंने प्रदेश में प्रतिवर्ष हो रहे पर्यटन की तादाद में वृद्धि का हवाला देते हुए कहा कि श्राइन बोर्ड के गठन से पर्यटन विकास की संभावनाओं को मजबूती मिलेगी।
उन्होंने कहा िक ऋषिकेश में स्वछता, सीवरेज, पेयजल व अन्य कार्यो के लिए 2100 करोड़ रूपये की योजना बनायी गई है। हमारा प्रयास है कि आगामी कुम्भ स्वच्छ एवं ग्रीन कुंभ के रूप में आयोजित है।
मेयर ऋषिकेश अनीता मंमगाई ने कहा कि पिछले एक साल में नगर निगम ऋषिकेश के विकास के लिए हर संभव प्रयास किये गये हैं। स्वच्छता, पथ प्रकाश, सीवरेज, पेयजल एवं निर्माण कार्यों पर विशेष ध्यान दिया गया है। पिछले एक साल में 09 करोड़ से अधिक के कार्य किये गये एवं 07 करोड़ के कार्य प्रगति पर हैं।
इस अवसर पर स्वामी चिदानन्द, गढ़वाल मंडल विकास निगम के उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार सिंघल, मनोहर कान्त ध्यानी, भाजपा के जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुण्डीर, स्वामी केशवदास महाराज, देवेंद्र सकलानी, कृष्ण कुमार सिंघल , मंडल अध्यक्ष दिनेश सती पूर्व राज्य मंत्री संदीप गुप्ता, सुनील थपलियाल, डॉक्टर हेतराम मंगाई आदि मौजूद रहे।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close