उत्तर प्रदेश

छावनी परिषद में बनेंगे एक हजार स्वच्छता और जल संरक्षण प्रहरी, कचरे की होगी रिसाइकिल

मेरठ, लोकसत्य। स्वच्छता एवं जल संरक्षण के लिए काम करने वाली संस्था ‘ ग्रोइंग प्यूपिल’ ब छावनी परिषद के साथ मिलकर मेरठ कैंट को कूड़ा मुक्त बनाने के लिए काम करेगी। इसका निर्णय शनिवार को मेरठ छावनी परिषद में पर आयोजित एक बैठक में लिया गया। संस्था केवल छावनी क्षेत्र में 15 अक्टूबर तक एक हजार स्वच्छता एवं जल संरक्षण पहरी बनायेगी। सीईओ प्रसाद चव्हाण ने कहा कि छावनी के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों व वार्ड सदस्यों के सहयोग से स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के लिए पूरी तैयारी की जा चुकी है। पिछले वर्ष देश में नंबर दो पर रहने वाली मेरठ छावनी इस बार नंबर एक के लिए दावेदारी कर रही है। उन्होंने कहा कि छावनी क्षेत्र को कूड़ा मुक्त बनाने का प्रयास कर रहे है, जिसके लिए स्वच्छता एवं जल संरक्षण पर काम करने वाली संस्थाओं से भी सहयोग लिया जा रहा है।
द ग्रोइंग प्यूपिल की अध्यक्षा अदिति चंद्रा ने बताया कि छावनी क्षेत्र में उनकी संस्था स्वच्छता एवं जल संरक्षण के लिए चार चरणों में अभियान चलाएंगी। पहले चरण में स्वच्छता एवं जल संरक्षण प्रहरी बनाए जायेंगे। दूसरे चरण में मोहल्ला समितियां बनाई जाएंगी। साथ ही जो लोग स्वच्छता ग्राही बनेंगे, उन्हें वर्कशाप के माध्यम से किचन गार्डन एवं वेस्ट मैनेजमेंट संबंधित प्रशिक्षण दिया जायेगा। तीसरे चरण में लोगों के घरों में किचन गार्डन लगवाने व घरेलु कचरे से खाद बनाने का काम होगा। चौथे और अंतिम चरण में मौहल्ला स्तर पर घरेलू गलने वाले कचरे से खाद व न गल पाने वाले कचरे के रिसाइकिल करने की व्यवस्था की जायेगी। अदिति चंद्रा ने बताया कि 23 सितंबर को छावनी के वार्ड एक में पंडित दीन दयाल उपाध्याय इंस्टीट्यूट मॉल रोड में संस्था द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। जिसमें वार्ड एक के सभासद अनंत जैन के साथ मिलकर 150 स्वच्छता एवं जल संरक्षण प्रहरी बनाये जायेंगे। इसके लिए शनिवार से ही तोपखाना क्षेत्र में जनसम्पर्क किया जाएगा।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close