उत्तर प्रदेश

प्रदर्शन करने वाले कांग्रेसियों पर मुकदमा दर्ज

लखनऊ, लोकसत्य। उन्‍नाव दुष्‍कर्म पीड़िता की मौत पर राजनीति उफान पर रही। सपा सु्प्रीमो अखिलेश यादव के साथ नरेश उत्‍तम से लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध जताया था। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीजेपी कार्यालय पर धावा बोलना चाहा और विधानसभा और जीपीओ पर दिनभर धरना प्रदर्शन किया। इसे लेकर शांति व्‍यवस्‍था भंग करने को लेकर 100 से अधिक कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शनिवार को उन्‍नाव दुष्‍कर्म पीड़िता की मौत पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। जिसमें पुलिस ने कार्यकर्ताओं को दौड़ा दौड़ाकर लाठियां भी भांजी गई थी। इसके बाद रविवार को चौकी इंचार्ज सचिवालय ने हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया। जिसमें तोड़फोड़, अराजकता, शांति व्यवस्था भंग करने की धाराओं में पुलिस ने मुकदमा लिखा। लगभग 100 से अधिक अज्ञात कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज हुआ।
उन्नाव दुष्कर्म पीडि़ता की मौत ने शनिवार को सियासी हंगामा मचा दिया। सरकार पर हमलावर विपक्षी दल सड़क पर उतर आए। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए तो पहली बार बसपा प्रमुख मायावती राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने राजभवन पहुंच गईं। कांग्रेस ने भी सक्रियता दिखाई। पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा पीडि़त परिवार से मिलने उन्नाव पहुंचीं और इधर, कार्यकर्ताओं ने भाजपा दफ्तर पर धावा बोला, जीपीओ पर करीब चार घंटे प्रदर्शन किया। पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ा।
उन्नाव कांड पर विपक्षी खेमे में खलबली कांग्रेस महासचिव के कदम से शुरू हुई। शनिवार सुबह 10.30 बजे अचानक वह प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू औैर विधानमंडल दल नेता आराधना मिश्रा के साथ उन्नाव के लिए रवाना हो गईं। इस पर सपा भी हरकत में आई। राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम और मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी के साथ विधानसभा के गेट नंबर एक के सामने धरने पर बैठ गए। कार्यकर्ताओं को सूचना मिली तो वह भी दौड़े।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close