उत्तर प्रदेश

ब्रजघाट नही पहुंचे श्रद्धालु, सूने रहे घाट

गढ़मुक्तेश्वर, लोकसत्य
कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से चलते पूरा देश संकट में जूझ रहा है। बृजघाट पर प्रत्येक माह अमावस्या पूर्णिमा पर कई प्रान्तों से श्रद्धालुओं का आवागमन होता है। जहाँ श्रद्धालु अपने पित्रो की शांति के लिए भी कर्मकांड, हवन पूजा करते है। शुक्रवार को बट अमावस्या और शनि जयंती के चलते बृजघाट पर पुलिस प्रशासन की सख्ती के चलते गंगा में स्नान तथा कर्मकांड करने वाले श्रद्धालु नही पहुँचे, जिसके चलते लॉकडाउन का पूरा असर लोगो की आस्था पर भी देखने को मिला।
शुक्रवार को बट अमावस्या पर बृजघाट पे लगने वाले आस्था के मेले पर लॉकडाउन का पूरा असर दिखाई दिया। सामान्य दिनों में में हरियाणा, राजस्थान, पंजाब व दिल्ली सहित इस अमावस्या पर करीब पांच लाख श्रद्धालुओं का आवागमन तीर्थ नगरी में होता था। उमड़ने वाली भक्तों की भीड़ से इस अमावस्या पर हाइवे जाम हो जाता था। लेकिन देश मे वैश्विक महामारी के चलते गंगा घाट पर भी लॉकडाउन का पूरा असर देखने को मिला। घाट पर केवल अस्थि विसर्जन करने वाले लोग ही देखने को मिले। लॉकडाउन के गंगा घाट पर लगने वाले वट अमावस्या और शनि जयंती पर लगने वाले आस्था के मेले पर भी लॉकडाउन का पूरा असर देखने को मिला।
कोतवाली प्रभारी ने सुबह से ही संभाला मोर्चा
अमावस्या पर बृजघाट गंगा घाटो पर लॉकडाउन का पालन करने के लिए सुबह से ही गढ़ कोतवाली प्रभारी राजपाल तोमर और उन की टीम गंगा घाटो पर तैनात थी। उन्होंने बताया कि हापुड़ प्रशासन की तरफ से घाट पूरी तरह बंद है और स्नान करने वालो को भी कोई अनुमति नही दी गयी है। स्थानीय लोगों को बृजघाट में आने नही दिया गया है। प्रशासन के आदेशों का सख्ती से पालन कराया जा रहा हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close