उत्तर प्रदेश

मांगों को लेकर बैंक कर्मचारियों की हड़ताल

मेरठ, लोकसत्य
यूपी बैंक इम्प्लाइज यूनियन के तत्वावधान में समूचे प्रदेश में 6 सूत्रीय मांगों को लेकर आज बैंक के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। कर्मचारियों ने हड़ताल के दौरान बैंकों के निजीकरण और होने वाले विलय को लेकर वित्तमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
बैंक कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ भरी हुंकार और कहा कि हमारी मांगों को नहीं माना गया तो हम अनिश्चित कालीन हड़ताल करेंगे। जिसकी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होगी। दीपावली का त्योहार नजदीक होने के चलते बैंक की हड़ताल से आम लोगों को खासा परेशानी का सामना भी करना पड़़ रहा है। आज महानगर के सभी बैंकों के बाहर ताले लटके रहे। इसके चलते बैंक में आने वाले ग्राहकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। बैंक आने वाले लोग ताला देखकर वापस लौट रहे थे। वहीं बैंक में हड़ताल के चलते एटीएम से भी रूपये निकलने बंद हो गए। जिसके चलते लोगों को इधरकृउधर भटकना पड़ा। बैंक कर्मचारियों ने नारेबाजी और धरना प्रदर्शन करते हुए कहा कि इस सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। बैंक कर्मचारियों का कहना था कि एक तरफ तो सरकार छोटे बैंक खोलने के लिए लाइसेंस दी रही है। वहीं दूसरी ओर बड़े बैंकों का विलय करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार की यह नीति समझ से परे हैं। कर्मचारियों का कहना था कि जब इतने सारे बैंक और शाखाएं होने पर लोगों को बैंकों में घंटों लाइन लगानी पड़ती है तो जब बैंकों का विलय हो जाएगा तो शाखाएं भी कम होंगी और बैंक भी ऐसे में लोगों को कितनी परेशानी झेलनी होगी इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। बैंक कर्मचारियों ने कहा कि अभी आगरा में हमारा दो दिन का सम्मेलन हुआ था। जिसमें प्रदेश भर से हमारे नेता और कर्मचारी एकत्र हुए थे। इसके बाद भी सरकार ने हमारी बात नहीं सुनी तो हम बड़ी हड़ताल पर जा सकते हैं। इन दिनों त्यौहार के मौके पर बैंकों की हड़ताल से वित्तीय व्यवस्था गड़बड़ा गई है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close