उत्तर प्रदेश

उन्नत तकनीकी से खेती कर किसानों की आय में वृद्धि की जा सकती है:शाही

लखनऊ, (लोकसत्य)। उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि उन्नत तकनीकी एवं जैविक खाद के प्रयोग से गुणवत्तापूर्ण उत्पादन में बढ़त कर किसानों की आय में वृद्धि की जा सकती है। शाही सोमवार को यहां कृषि भवन स्थित सभागर में आयोजित राज्य स्तरीय रबी उत्पादकता गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने कृषि उत्पादन के क्षेत्र में अभूतपूर्व वृद्धि हासिल करते हुये रिकार्ड खाद्यान्न उत्पादन किया है। उन्होंने रिकार्ड खाद्यान्न उत्पादन के लिये सभी किसानों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज की खेती वैज्ञानिक एवं उन्नत तरीकों की खेती हो गयी है। खेती की लागत कम करते हुये एफपीओ के माध्यम से कृषि यंत्रों, उन्नत तकनीकी एवं जैविक खाद के प्रयोग से गुणवत्तापूर्ण उत्पादन में बढ़त कर किसानों की आय में वृद्धि की जा सकती है।

शाही ने कहा कि विगत वर्षों की तुलना में वर्तमान सरकार के कार्यकाल में उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य में काफी बढ़ोतरी हुई है, जिसका सीधा लाभ किसानों को मिला है। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा मोटे अनाज पर न्यूनतम समर्थन मूल्य अन्य अनाज की तुलना में अधिक रखा गया है। उन्होंने कहा कि किसान गेहूं व धान की खेती के साथ-साथ दलहन, तिलहन की खेती पर भी विशेष ध्यान दें।

कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार कृषि भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के प्रति जागरूकता के उद्देश्य से विभिन्न कार्यक्रम चला रही है। मिलियन फार्मर्स स्कूल के माध्यम से भी किसानों को कृषि के उन्नत साधनों एवं कृषि रक्षा के उपायों के बारे में जागरूक किया गया है। उन्होंने किसानों से अपील करते हुये कहा कि वे खरीफ फसल के कटान के उपरान्त फसल अवशेष को खेतों में न जलायें। उन्होंने फसल अवशेष को खेत में ही मिलाकर भूमि में मृदा संरक्षण एवं उर्वरा शक्ति को बढ़ाने पर जोर दिया। इस अवसर पर कृषि मंत्री ने सभी किसानों को फसल अवशेष न जलाने की शपथ भी दिलाई।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close