उत्तर प्रदेशराज्य

भाजपा सत्ता में आई तो संविधान और आरक्षण को हो सकता है खतरा: अखिलेश

संतकबीरनगर लोकसत्य । पार्टी(सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) पर निशाना साधते हुये कहा“ मौजूदा लोकसभा चुनाव संविधान और आरक्षण को बचाने के लिये लड़ा जा रहा है, यदि भाजपा सत्ता आती है तो संविधान और आरक्षक नीति को खतरा हो सकता है। ” यादव ने मंगलवार को संतकबीरनगर लोकसभा क्षेत्र से गठबंधन के प्रत्याशी भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी के पक्ष में धनघटा के पकौड़ी बाग में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि मौजूदा लोकसभा चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है। यह चुनाव संविधान और आरक्षण नीति को बचाने का चुनाव है। यदि भाजपा सत्ता में आई तो संविधान और आरक्षण नीति खतरे में पड़ सकती है।
उन्होंने कहा कि मेरे मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद मुख्यमंत्री आवास को गंगाजल से धोया गया था। उन्होंने तमाम पिछड़ी जातियों का नाम लेकर कहा कि यदि मेरे बारे में ऐसी सोच भाजपा के लोग रखते हैं तो अन्य पिछड़ी जातियों और दलितों के बारे में भी उनके विचार बहुत ही संकीर्ण होंगे।यादव ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस एक ही तराजू के दो सिक्के है। उन्होंने कहा कि सपा बसपा का वोट बैंक किसी भी सूरत में बिखरने ना पाए।
प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि गठबंधन चौकीदार( प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी) की चौकी छीनने में निश्चित रूप में सफल होगा। उन्होंने कहा कि चौकीदार हट जाएगा तो ‘ठोकिदार'(मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ) भी हटेगा। पिछले चार चरणों की तरह लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के मतदान में भी सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने भाजपा को कोसों दूर छोड़ दिया है।
उन्होंने कहाकि भाजपा कहती है कि हमारा गठबंधन महामिलावट है। हम कहते हैं कि यह महापरिवर्तन का गठबंधन है। उन्होंने कहा कि महागठबंधन से भाजपा खेमे में घबराहट व बौखलाहट है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले दो चरणों के मतदान में भी गठबंधन को जनता का समर्थन व विश्वास हासिल होगा।
यादव ने महागठबंधन के प्रत्याशी भीष्मशंकर उर्फ कुशल तिवारी के पक्ष में लोगों से वोट की अपील करते हुए कहा कि भाजपा की नींव झूठ पर टिकी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आतंकवाद पर भाषण दे रहे है। भाजपा को सात साल का हिसाब लेना है। आज किसानों को लागत नहीं मिल रही है। यूरिया की बोरी से पांच किलो चोरी कर लिया।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close