बिहारराज्य

बिहार पुलिस ने मोदी को पत्र लिखने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ दर्ज मुकदमा वापस लिया

पटना, (लोकसत्य)। देशभर में विरोध के बाद अंततः बिहार पुलिस ने 49 हस्तियों के खिलाफ देशद्रोह के मामले में दर्ज प्रकरण वापस लेने का फैसला किया है। इन हस्तियों ने मॉब लिंचिंग से लेकर दलितों और अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों को लेकर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। अब इस प्रकरण को वापस लेते हुए बिहार पुलिस ने घोषणा की है कि वह प्रकरण दर्ज कराने वाले वकील सुधीर ओझा के खिलाफ झूठी और भ्रामक एफआइआर  कराने के मामले में प्रकरण दर्ज करेगी।

बिहार पुलिस के प्रवक्ता जितेंद्र कुमार ने मीडिया को बताया कि जिला पुलिस प्रमुख ने इस प्रकरण को दुर्भावनापूर्ण बताते हुए शिकायतकर्ता के खिलाफ मामला दर्ज करने की अनुशंसा की है। प्रवक्ता का कहना है कि शिकायतकर्ता ने प्रसिद्धि पाने के लिए यह मामला दर्ज कराया। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले की जांच कर रहे जांच अधिकारी एक या 2 दिन के भीतर कोर्ट में जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

49 हस्तियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराने वाले वकील सुधीर ओझा का संबंध रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी से बताया जाता है। रामविलास पासवान की पार्टी केंद्र और राज्य में एनडीए का हिस्सा है इसके चलते नीतीश कुमार सरकार के लिए यह प्रकरण शर्मिंदगी का कारण बन गया था। इस मामले पर टिप्पणी करते हुए बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि वह भी सुधीर ओझा द्वारा दुर्भावनापूर्ण प्रकरण दर्ज कराने की आदत का शिकार हो चुके हैं। मोदी ने कहा कि ओझा ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह – फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन और रितिक रोशन के विरुद्ध समाचार पत्रों की रिपोर्ट के आधार पर पब्लिसिटी पाने के लिए दुर्भावना पूर्ण प्रकरण दर्ज कराए। उन्होंने कहा कि इस प्रकरण में भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को घसीटना अथवा प्रधानमंत्री को निशाना बनाना उचित नहीं है।

ज्ञात रहे कि निर्देशक अपर्णा सेन, अदूर गोपालकृष्णन और लेखक रामचंद्र गुहा समेत अन्य द्वारा जुलाई में प्रधानमंत्री को खत लिख मॉब लिंचिंग (पीट-पीटकर हत्या) की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जताई गयी थी। जिसपर बिहार के मुजफ्फरपुर में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्य कांत तिवारी के आदेश के बाद  प्राथमिकी दर्ज हुई । याचिका एक स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा ने दर्ज कराई थी। खत लिखनेवालों के खिलाफ राजद्रोह, धार्मिक भावनाएं आहत करने सहित अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज हुआ था। इस प्राथमिकी का देशभर में विरोध हुआ था। इसके लिए कांग्रेस के शशि थरूर सहित अनेक दिग्गज नेताओं और हस्तियों ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधा था।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close