दिल्लीराज्य

‘दलित शिक्षक नहीं मनाएंगे दीवाली, न ही अफसरों को मनाने देंगे’

नई दिल्ली, (लोकसत्य)। दिल्ली के दलित शिक्षकों की यूनियन “संयुक्त अनुसूचित जाति/जनजाति शिक्षक मंच दिल्ली” (प्राथमिक से विश्वविद्यालय स्तर तक) ने तीनों दिल्ली नगर निगम कमिश्नर, मुख्य सचिव, पुलिस कमिश्नर, शिक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री, उप-राज्यपाल, गृहमंत्री, राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को नोटिस भेजकर ऐलान किया है कि राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग और अधिकारियों के गहरे गठजोड के विरोध में दिल्ली के दलित शिक्षक दीपावली नहीं मनाएंगे और न ही दलित और आरक्षण विरोधी अधिकारियों को दीपावली मनाने देंगे।

शिक्षक मंच के संस्थापक एंव सुप्रीमो रामकिशन पूनिया के अनुसार आज आयोग, तीनों निगम कमिश्नर और मुख्य सचिव के गठजोड के कारण तीनों निगम में कार्यरत हजारों दलित शिक्षक परेशान हैं। दलित शिक्षकों की संवैधानिक मांगों और समस्याओं पर विचार करने के लिए इस शिक्षक मंच की अपील पर भारत सरकार के राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने 27 सितंबर 2012, 7 अक्टूबर 2013, 1 अगस्त 2016, 3 अगस्त 2017 को तीनों दिल्ली नगर निगम के कमिश्नर और मुख्य सचिव को आयोग में तलब करके जो दिशा निर्देश दिए थे। उन्हें लागू नहीं किया जा रहा है। यूनियन की ओर से अनेक बार तीनों निगम कमिश्नर और आयोग को अवगत कराया गया लेकिन कोई प्रभाव नहीं पड़ा। यूनियन इस गठजोड का जबरदस्त विरोध करेगी। दलित शिक्षक दीपावली नहीं मनाएंगे और दीपावली के दिन आयोग के चेयरमैन और इन सभी अधिकारियों के निवास पर दलित शिक्षक धरना देंगे।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close