दिल्लीराज्य

भारत को पेपर निर्यातक देश बनाने का प्रयास: ओम बिरला

नई दिल्ली, लोकसत्य। आधुनिक तकनीक के इस युग में हमारे देश में पेपर उद्योग को नई प्रतिस्पर्धा से संघर्ष करना पड़ रहा है। सरकार का प्रयास है कि भारत पेपर के मामले में निर्यातक देश बने। ज्ञात रहे व्यापार और  उद्योग  जब तक आगे  नहीं बढ़ेगा तब तक देश तरक्की नहीं करेगा। उक्त विचार लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पूर्वी दिल्ली के सीबीडी ग्राउंड स्थित  द लीला होटल में आयोजत देश के पेपर व्यापारियों के सबसे बड़े संगठन “फेडरेशन ऑफ पेपर ट्रेडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया”  के  तीन दिवसीय 58 वें गोल्डन जुबली अधिवेशन का उद्घाटन करते समय व्यक्ति किए।

इस अवसर ओम बिरला ने पेपर व्यापारियों को भरोसा दिया कि सरकार उनके भरोसे को टूटने नहीं देगी। मैं स्वयं आपकी समस्याओं व मुद्दों को सरकार तक पहुंचाऊंगा। सरकार का प्रयास है कि भारत का पेपर व्यापार निर्बाध आगे बढ़े।

इस मौके पर ‘फेडरेशन ऑफ़ पेपर ट्रेडर्स एसोसिएशनस ऑफ़ इण्डिया’ के चेयरमैन सज्जन गोयनका, महामन्त्री हिरेन कारिया, पेपर मर्चेंट्स एसोसिएशन दिल्ली के प्रधान पदम् चन्द जैन, महामंत्री पीयूष जैन, मंत्री रमेश गर्ग,  नोमिनी प्रधान चन्द्रदेव चौधरी, पूर्व प्रधान नवीन जैन, अधिवेशन के मुख्य संयोजक रवीन्द्र पसारी, राजकुमार बिंदल, मिडिया कॉर्डिनेटर राजीव शर्मा, सहित देश के 36 प्रदेशों की पेपर मर्चेंट्स एसोसिएशनों के प्रमुख प्रतिनिधि उपस्थित रहे। उद्घाटन समारोह में पहुंचे सभी अतिथियों का स्वागत स्मृति चिन्ह व पौधा भेंट करके किया गया। 

उद्घाटन समारोह के दौरान लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को फेडरेशन के अध्यक्ष सज्जन गोयनका व पेपर मर्चेंट्स एसोसिएसन दिल्ली अध्यक्ष पदम चंद जैन ने देश भर के पेपर व्यापारियों की अधिकांश समस्याओं से अवगत कराया। इस मौके पर अधिवेशन समिति चेयरमैन दलीप बिंदल ने बताया मंदी के इस दौर में यह अधिवेशन पेपर व्यापारियों की समस्याओं का समाधान खोजने में मील का पत्थर साबित होगा। समारोह में पर्यावरण संरक्षण पर भी विशेष बल दिया गया।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close