दिल्लीराज्य

हर्षवर्धन ने बाल विवाह और किशोरावस्था में गर्भाधान पर चिंता जताई

नई दिल्ली, (लोकसत्य)। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बाल विवाह और किशोरावस्था में गर्भाधान पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं को अस्पतालों से निकालकर आम जनता तक ले जाने की जरुरत है।

डॉ. हर्षवर्धन ने दिल्ली में एक कार्यशाला ‘किशोर स्वास्थ्य में निवेश: जनसांख्यिकीय लाभांश का दोहन’ का उद्घाटन करते हुए कहा कि मानव जीवन का किशोरवस्था एक अहम चरण है। इस आयु वर्ग में निवेश करना बेहतर है जिससे नौजवान आबादी की क्षमताओं का लाभ लिया जा सके। इससे जनसांख्यिकीय लाभांश भी लिया जा सकेगा।’ कार्यशाला का आयोजन आब्ज़र्वर रिसर्च फाउंडेशन तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने किया था। उन्होंने कहा कि देश के कुछ हिस्सों में होने वाले बाल विवाह तथा किशोरावस्था में होने वाले गर्भाधान से निपटने के लिए यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं को अस्पतालों से निकालकर किशाेर आबादी तक पहुंचाना होगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘देश में 25.30 करोड़ किशाेर आबादी है जो बचपन से युवावस्था की ओर ले जाने वाले इस महत्वपूर्ण दौर से गुजर रहे हैं और जिन्हें पाेषण, शिक्षा, परामर्श और मार्गदर्शन की आवश्यकता है। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वे एक स्वस्थ व्यस्क के रूप में बड़े हों। आबादी के इस समूह पर कई ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं का भी जाेखिम है जिनसे बचा जा सकता है जैसे वक्त से पहले और गैर -इरादा गर्भाधान, असुरक्षित याैन संबंध, कुपोषण, एनीमिया और माेटापा तथा शराब, तंबाकू तथा नशीले पदार्थों का सेवन, मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंतायें और चाेट तथा हिंसा आदि।’

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close