उत्तर प्रदेशराज्य

गैंगस्टर से जुड़े अहम मामलों के जांच के लिए कानपुर पहुंची SIT

धर्मेंद्र बाजपेयी…

कानपूर (लोकसत्य)। Uttar Pradesh सरकार की तरफ से गठित की गई है SIT के अधिकारी गैंगस्टर विकास के गांव बिकरु पहुंचे। तीन के अफसरों ने विकास दुबे के घर की पड़ताल के साथ ग्रामीणों से भी गहन पूछताछ की इस दौरान एक एक बिंदु पर गहन छानबीन की गई जहां पर पुलिसकर्मी मारे गए थे वहां पर काफी देर तक बारीकी से मौका मुआयना किया गया

 शासन की तरफ से गठित की गई SIT में अपर मुख्य सचिव संजय भूषण रेड्डी की अगुवाई में आईपीएस हरिराम शर्मा, डॉक्टर बी डी आर शर्मा, जिलाधिकारी कानपुर नगर अनन्त देव तिवारी , एसएसपी कानपुर नगर दिनेश कुमार पी समेत आला अधिकारी बिकरू गांव पहुंचे! गांव में पहुंचे अफसरों ने लगभग डेढ़ घंटे तक गांव का जायजा लिया ग्रामीणों से पूछताछ  कर कई अहम जानकारियां जुटाई। थोड़ी देर बाद दोपहर में SIT की अध्यक्षता कर रहे अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी कानपुर देहात के शिवली थाना पहुंचे यहां पर उन्होंने भाजपा सरकार में दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री रहे संतोष शुक्ला हत्याकांड समेत एनकाउंटर में मारे गए 5 लाख के इनामी गैंगस्टर विकास दुबे पर दर्ज अन्य मुकदमों की फाइलों का अवलोकन और पड़ताल की इस दौरान फाइल में दर्ज दस्तावेजों पर गहन अध्ययन किया गया ताराचंद इंटर कॉलेज के प्रबंधक रहे सिद्धेश्वर पांडे हत्याकांड में गवाह से भी पूछताछ की गई! इसके अलावा विकास के पूर्व  प्रतिद्वंदी लल्लन बाजपेयी  समेत विकास दुबे के अन्य मुकदमा वादियों से भी पूछताछ की गई! गौरतलब है कि SIT को 31 जुलाई तक शासन  द्वारा दिए गए 9 अहम बिंदुओं जिसमें

1-घटना के पीछे कारणों जैसे विकास पर चल रहे मामलों में कार्यवाही,

2-सजा दिलाने,जमानत रद्द कराने के लिए कार्यवाही,

3- विकास के विरुद्ध विभिन्न थानों में शिकायतों का विवरण,चौबेपुर थाना समेत जिले के अन्य अधिकारियों की जांच निष्कर्ष

4-विकास और उसके साथियों पर गैंगस्टर गुंडा एक्ट एनएसए के तहत कार्यवाही की स्थिति और उसमें बरती गई लापरवाही 5-विकास और उसके साथियों के पिछले 1 साल के कॉल डिटेल ,सीडीआर की जांच 6-विकास के संपर्क में आने वाले पुलिस कर्मियों की मिलीभगत के सबूत मिलने पर उन पर की गई कार्यवाही की अनुशंसा

7-घटना के दिन आरोपियों के पास हथियारों एवं फायर पावर की जानकारी पर

8-पुलिस विजिलेंस की फैलियर लापरवाही की जांच

9-अपराधी होने के बावजूद भी विकास और उसके साथियों को शस्त्र लाइसेंस उपलब्ध कराने में विभिन्न अधिकारियों की भूमिका आदि पर

अपनी रिपोर्ट सौंपनी है! जानकारी के मुताबिक एसआईटी की टीम चौबेपुर के निलंबित दरोगा और सिपाही से भी पूछताछ कर सकती है! इसके अलावा टीम Encounter के स्थलों का  भी मुआयना  कर सकती है !

फिलहाल बिकरू गांव में माहौल अभी भी पूरी तरह से सामान्य नहीं है !1 दिन पहले आर ए एफ  की तैनाती पुलिस की चौपाल के बाद भी प्रशासनिक और पुलिस अफसरों ने ग्रामीणों को सुरक्षा का भरोसा दिलाये जाने के बावजूद  पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है!

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close