बड़ी खबरेंराजस्थानराज्य

Rajasthan congress crisis live: सरकार बच गई पर खतरा नहीं टला, Pilot का बागी तेवर बरकरार

जयपुर,(लोकसत्य)। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार फिलहाल बचती नजर आ  रही है। लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। CM Ashok Gahlot के घर पर विधायको की बैठक के बाद ऐसा लग रहा है कि सरकार बच गई लेकिन अभी भी खतरा मंडरा रहा है। Sachin Pilot अभी भी नराज है। वह बैठक में भी नहीं आये। बैठक में 107 विधायक मौजूद रहे। 

हाई ड्रामें के बीच हुई बैठक में CM Ashok Gahlot ने मीडिया के सामने अपने विधायकों की परेड कराई। बैठक में कांग्रेस के साथ साथ उसके सहयोगी दलों के विधायक भी शामिल थे। बताते चलें कि  CM Ashok Gahlot से नराज उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट द्वारा बगावती तेवर अपनाए जाने से उपजे संकट के बीच यह बैठक सुबह साढे़ दस बजे शुरू होनी थी लेकिन दोपहर लगभग डेढ़ बजे यह शुरू हुई।

बैठक में मौजूद विधायकों का मीडिया सामने परेड भी कराई गई। उनके फोटो लेने की अनुमति दी गई। मुख्यमंत्री के अवास पर हुई बैठक में कांग्रेस के साथ साथ बीटीपी के दो, माकपा के एक, आरएलडी के एक विधायक तथा कांग्रेस का समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायक भी मौजूद हैं। बैठक में कांग्रेस के महासचिव के सी वेणुगोपाल, पार्टी के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे व राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला भी बैठक में रहे।

कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने सोमवार को कहा कि भाजपा ने उन्हें अशोक गहलोत सरकार को गिराने के लिए बड़ी रकम देने की पेशकश की। जयपुर में सीएम आवास के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार के पास पूरी संख्या है। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के कुछ विधायक भी सरकार के संपर्क में हैं। गुढ़ा उन सात बसपा विधायकों में से हैं जो कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

वहीें राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पुनिया ने कहा कि सचिन पायलट राजस्थान के सीएम पद के लिए सही उम्मीदवार थे, लेकिन अशोक गहलोत ने कार्यभार संभाल लिया, तब से पार्टी में संघर्ष शुरू हो गया। आज जो हो रहा है, वह उसी संघर्ष का परिणाम है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बहुमत खो चुकी है।

कांग्रेस प्रवक्ता सिंह सुरजेवाला ने कहा कि कभी-कभी वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो जाता है जो प्रजा​तांत्रितक प्रणाली में स्वा​भाविक है। परंतु वैचारिक मतभेद पैदा होने से चुनी हुई अपनी ही पार्टी की सरकार को कमजोर करना या भाजपा को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित है।

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार बात की है। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है, लेकिन राजस्थान व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से बड़ा है। साथ ही उन्होंने कहा कि मतभेद है तो पार्टी आलाकमान के दरवाजे खुले हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close