विदेश

राफेल का इंजन बनाने वाली कंपनी ने कहा, कर को लेकर नहीं आतंकित करे भारत

पेरिस,(लोकसत्य)। दुनिया की अति उन्नत लड़ाकू विमान का इंजन बनाने वाली कंपनी सैफरन भारत में टैक्स सिस्टम को लेकर बेहद चिंतित है। फ्रांस की इंजन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी सैफरन के सीईओ ने बुधवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से कहा कि भारत को हमें अपने कर और सीमा शुल्क नियमों के जरिये ‘आतंकित’ नहीं करना चाहिए। बात दे कि कंपनी ने राफेल लड़ाकू जेट विमान का इंजन बनाया है। इसके साथ ही फ्रांसीसी कंपनी ने भारत में 15 करोड़ डॉलर का निवेश करने की योजना की घोषणा की। पहला राफेल मंगलवार को फ्रांस की कंपनी दशॉ ने भारत को सौंप दिया, हालांकि इसकी डिलेवरी अगले साल होगी। भारत ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने की डील की है।रक्षामंत्री सिंह बहुराष्ट्रीय कंपनी सैफरन के कारखाने में भी गए। वहां कंपनी की ओर से उनके समक्ष प्रस्तुतीकरण दिया गया। सैफरन राफेल जेट में इस्तेमाल होने वाले अत्याधुनिक एम88 इंजन बनाती है। भारत ने फ्रांस से राफेल विमानों की खरीद है।

प्रस्तुतीकरण के दौरान सैफरन एयरक्राफ्ट इंजन के सीईओ ओलिवियर एंड्रीज ने कहा कि कंपनी का इरादा भारत में प्रशिक्षण और रख-रखाव पर 15 करोड़ डॉलर का निवेश करने का है। हालांकि, सीईओ ने कहा कि वह भारत से कर ढांचे पर अधिक समर्थन की उम्मीद करते हैं।

एंड्रीज ने कहा,लेकिन हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि भारत की कर और सीमा शुल्क प्रणाली आतंकित करने वाली नहीं हो। रक्षामंत्री ने सीईओ से कहा कि भारत अपनी ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत निवेश के लिए अनुकूल माहौल उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है।सिंह ने सैफरन को अगले साल फरवरी में लखनऊ में होने वाले ‘डेफएक्सपो’ में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया। कंपनी ने उनके निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close